• Home  »  टॉपदेश   »   बलविंदर सिंह की पत्नी का आरोप- हमलों की 42 FIR दर्ज होने के बाद भी हटाई गई हमारी सुरक्षा

बलविंदर सिंह की पत्नी का आरोप- हमलों की 42 FIR दर्ज होने के बाद भी हटाई गई हमारी सुरक्षा

खालिस्तानी आतंकवाद के खिलाफ मोर्चा उठाने वाले बलविंदर सिंह की शुक्रवार को दो हमलावरों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी. कई आतंकवादी हमलों का सामना करने वाले बलविंदर को पुलिस सुरक्षा दी गई थी, लेकिन पिछले साल ये सुरक्षा हटा ली गई थी.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 3:59 pm, Sat, 17 October 20
बलविंदर सिंह की पत्नी जगदीश कौर

बलविंदर सिंह की पत्नी जगदीश कौर ने उनके पति की हत्या के लिए सरकार, प्रशासन और खुफिया एजेंसियों को जिम्मेदार ठहराया है. उनका कहना है कि हमें फिर से सुरक्षा दिए जाने की उम्मीद थी, लेकिन नहीं दी गई. दरअसल खालिस्तानी आतंकवाद के खिलाफ मोर्चा उठाने वाले बलविंदर सिंह की शुक्रवार को दो हमलावरों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी. कई आतंकवादी हमलों का सामना करने वाले बलविंदर सिंह को पुलिस सुरक्षा दी गई थी, लेकिन पिछले साल ये सुरक्षा हटा ली गई थी.

इसपर उनकी पत्नी जगदीश कौर ने कहा कि सुरक्षा हटाया जाना गलत था. उन्होंने कहा कि जो लोग पुलिस सुरक्षा को अपनी साख दिखाने के लिए इस्तेमाल करते हैं उन्हें सुरक्षा दी गई. वहीं हमें असल में सुरक्षा की जरूरत थी और हमें ये सुरक्षा नहीं दी गई. उन्होंने कहा, “हमारे परिवार पर हमलों की 42 FIR दर्ज हैं और ऐसे कई हमले हुए हैं, जो दर्ज भी नहीं हुए हैं. इसलिए सुरक्षा हटाया जाना गलत था.”

बलविंदर सिंह की बेटी प्रणप्रीत कौर ने कहा, “अगर उनके पास सुरक्षा होती तो ऐसा कभी नहीं होता, क्योंकि तब हमलावरों को डर होता. हमनें कई ईमेल भेजे, पत्र लिखे और अधिकारियों से मिले भी, लेकिन हमें कोई सुरक्षा नहीं मिली.”

“कोरोना के दौरान पुलिस ने वापस बुला लिए थे गनमैन”

बलविंदर सिंह की सुरक्षा हटाए जाने पर SDM राजेश शर्मा ने बताया कि उनकी सुरक्षा कोरोना महामारी के दौरान हटाई गई थी. अचानक स्थिति खराब होने के चलते पुलिस विभाग ने सभी गनमैन वापस बुला लिए थे. दुर्भाग्य से ऐसे समय में ये घटना हो गई. शर्मा ने बताया कि अब परिवार को तीन गनमैन उपलब्ध कराए गए हैं.

बलविंदर सिंह भिखीविंड खालिस्तानी आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई के लिए मशहूर थे. भिखीविंड के बलविंदर सिंह संधू ने 1980 और 90 के दशक में आतंकवाद प्रभावित तरन तारन जिले में आतंकवादियों से सीधे लोहा लिया. इस दौरान संधू पर 16 बार 10 से 200 आतंकियों ने भारी हथियारों के साथ हमला बोला, लेकिन हर बार आतंकियों को पीछे हटना पड़ा था. बलविंदर सिंह की बहादुरी के लिए उन्हें शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया था.

16 बार आतंकियों को खदेड़ने वाले शौर्य चक्र विजेता बलविंदर सिंह भिखीविंड को मारी गोली