छठ पूजा के नाम पर अश्लीलता, एक तरफ भगवान की झांकी, दूसरी ओर बार बालाओं का डांस

बार बालाओं के नाचने का मामला उत्‍तर प्रदेश की औद्योगिक राजधानी कानपुर के कल्‍याणपुर इलाके में देखने को मिला. कल्याणपुर थाना क्षेत्र की आवास विकास कॉलोनी में शुक्रवार की देर रात भोजपुरी गानों पर जमकर ठुमके लगे.
vulgar dance indecent in Chhath Puja pandal, छठ पूजा के नाम पर अश्लीलता, एक तरफ भगवान की झांकी, दूसरी ओर बार बालाओं का डांस

कानपुर: बिहार और पूर्वांचल का सबसे बड़े महापर्व छठ पूजा सूर्य को अर्घ्य के साथ समाप्त हो गया लेकिन यूपी के कानपुर से चौंकने वाली खबर सामने आई है. यहां पर छठ पूजा के स्टेज पर आस्‍था के साथ खिलवाड़ होता दिखा. धार्मिक मंच पर पुलिस मौजूदगी में अश्‍लील ठुमके लगे.

बार बालाओं के नाचने का मामला उत्‍तर प्रदेश की औद्योगिक राजधानी कानपुर के कल्‍याणपुर इलाके में देखने को मिला. कल्याणपुर थाना क्षेत्र की आवास विकास कॉलोनी में शुक्रवार की देर रात भोजपुरी गानों पर जमकर ठुमके लगे.

एक तरफ जहां छठ माई की पूजा के समय सूर्यास्त के बाद सैकड़ों महिलाएं अर्घ देती हैं वहीं रात में उसी पूजा स्थल पर भक्तों के लिए एक अलग ही झांकी का आयोजन कर दिया गया. इतना ही नहीं भोजपुरी के भद्दे गानों पर बाल बालाओं ने जमकर डांस किया.

एक तरफ जहां भगवान की झाकियां सजी थी वहीं सामने दूसरी तरह बार बालाओं का अश्लील डांस हुआ. लोग नशे में धुत होकर लड़कियों के साथ अश्‍लील डांस कर रहे थे और उनपर नोट उछाल रहे थे. सबसे खास बात ये है कि इस तरह के सभी कार्यक्रम प्रशासन और पुलिस की अनुमति के बाद ही संभव होते हैं.

लोक आस्था का पर्व छठ रविवार की सुबह उदीयमान सूर्य को अघ्र्य देने के साथ ही संपन्न हो गया. चार दिवसीय इस अनुष्ठान के चौथे दिन अघ्र्य के बाद व्रतियों ने अन्न जल ग्रहण कर ‘पारण’ किया. छठ पर्व को लेकर चार दिनों तक पूरा बिहार भक्तिमय रहा.

मुहल्लों से लेकर गंगा तटों तक यानी पूरे इलाके में छठ पूजा के पारंपरिक गीत गूंजते रहे. राजधानी पटना की सभी सड़कों को दुल्हन की तरह सजाया गया. राजधानी के मुख्य सड़कों से लेकर गलियों तक की सफाई की गई. आम से लेकर खास वर्ग तक के लोग सड़कों की सफाई में व्यस्त रहे.

Related Posts