जम्मू-कश्मीर: हत्यारों को बख्शा नहीं जाएगा, बीडीसी अध्यक्ष की हत्या पर बोले उपराज्यपाल मनोज सिन्हा

मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) ने ट्वीट करके कहा, "यह जघन्य कृत्य, भय फैलाने और शांति और प्रगति के वातावरण को समाप्त करने के प्रयास में किया गया है. ऐसे हमलों का कोई और औचित्य नहीं हो सकता है. समाज में हिंसा और अपराधियों के लिए कोई स्थान नहीं है."

file photo

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में खग के ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल के अध्यक्ष भूपिंदर सिंह (Bhupinder Singh) को बडगाम (Budgam) में आतंकवादियों (Terrorists) ने गोली मार दी, जहां उनकी मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि बुधवार शाम करीब 7:45 बजे आतंकवादियों ने खग के बीडीसी अध्यक्ष भूपिंदर सिंह पर गोलीबारी की, जिनकी मौके पर ही मौत हो गई. इस घटना पर जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने गहरा शोक जाहिर किया है. उन्होंने कहा है कि इस तरह का जघन्य कृत्य, भय और अशांति फैलाने के लिए किया गया है.

मनोज सिन्हा ने ट्वीट करके कहा, “यह जघन्य कृत्य, भय फैलाने और शांति और प्रगति के वातावरण को समाप्त करने के प्रयास में किया गया है. ऐसे हमलों का कोई और औचित्य नहीं हो सकता है. समाज में हिंसा और अपराधियों के लिए कोई स्थान नहीं है. इस कायरतापूर्ण कृत्य में शामिल लोगों को जल्द ही सजा मिलेगी.”

जम्मू-कश्मीर: बडगाम में BDC चेयरमैन भूपिंदर सिंह को आतंकियों ने मारी गोली, मौके पर हुई मौत

‘शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी सहानुभूति’

उपराज्यपाल ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “मैं, खाग बडगाम से बीडीसी चेयरमैन भूपिंदर सिंह की हत्या की कड़ी निंदा करता हूं. शोक संतप्त परिवार के प्रति मेरी गहरी सहानुभूति है और दिवंगत आत्मा को शाश्वत शांति की प्रार्थना करता हूं.”

‘राजनीतिक कार्यकर्ता आतंकवादियों के लिए आसान निशाना’

वहीं, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, “बीडीसी काउंसिलर भूपिंदर सिंह की हत्या के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ. मुख्यधारा के जमीनी स्तर के राजनीतिक कार्यकर्ता आतंकवादियों के लिए आसान निशाना हैं और दुर्भाग्य से हाल के वर्षों में उनके लिए खतरा बढ़ा है. उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना है. उनकी आत्मा को शांति मिले.”

‘भारी कीमत चुकानी होगी’

जम्मू-कश्मीर भाजपा अध्यक्ष रविंद्र रैना ने कहा कि कायर पाकिस्तानियों ने एक बेगुनाह सरपंच की हत्या की. उन्हें इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी. इसके अलावा, ऑल जम्मू कश्मीर पंचायत कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष अनिल शर्मा ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की है.

जम्मू-कश्मीर राजभाषा विधेयक पर अकाली दल ने कहा- पंजाबी के समर्थन में उठी आवाज को दबाया गया

Related Posts