कोविड-19 वैक्‍सीन की 1 अरब खुराक बनाएगी भारत बायोटे‍क, टीकाकरण में नहीं लगेगा अधिक समय

डॉ. कृष्‍णा एला ने कहा, “हमें उम्मीद है कि हम इस वैक्‍सीन (Vaccine) की एक अरब डोज बनाएं. इससे एक अरब लोगों को एक-एक डोज मिल सकेगी. एक इंट्रानैसल वैक्सीन सुई, सिरिंज समेत अन्‍य मेडिकल चीजों के उपयोग को कम करने के लिए सरल होगी.”

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 4:16 pm, Wed, 23 September 20

कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) से निपटने के लिए दुनिया भर में वैक्सीन (Vaccine) विकसित करने का काम चल रहा है. इस बीच भारतीय कंपनी भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने ऐलान किया है कि वह कोरोना (Corona) की इंट्रानैसल (नाक के जरिए दी जाने वाली) वैक्‍सीन की करीब 1 अरब डोज बना सकती है. कंपनी ने बताया है कि वैक्‍सीन की डोज अमेरिका के मिसूरी में स्थित वाशिंगटन स्‍कूल ऑफ मेडिसिन के साथ मिलकर तैयार की जाएगी. ऐसे में यह माना जा रहा है कि इससे वैक्‍सीन की अत्यधिक उपलब्‍धता और कम कीमत को लेकर कुछ बात बन सकती है.

वैक्सीन निर्माण के पहले चरण के तहत सेंट लुइस यूनिवर्सिटी (SLU) की ट्रीटमेंट इवैलुएशन यूनिट और मिसूरी में ह्यूमन ट्रायल किया जाएगा. कंपनी का कहना है कि भारत बायोटेक को भारत में आगे के चरण के क्‍लीनिकल ट्रायल करने के लिए अपेक्षित नियामक स्‍वीकृति की भी जरूरत है.

‘एक अरब लोगों को एक-एक डोज मिल सकेगा’

भारत बायोटेक पहले ही अमेरिका, जापान और यूरोप को छोड़कर इस वैक्‍सीन को अन्‍य सभी बाजारों में वितरित करने का अधिकार हासिल कर चुकी है. इसके साथ ही भारत बायोटेक हैदराबाद के जीनोम वैली में स्थित अपनी यूनिट में भी वैक्सीन का बड़े पैमाने पर निर्माण करेगी.

भारत बायोटेक के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर डॉ. कृष्‍णा एला ने कहा, “हमें उम्मीद है कि हम इस वैक्‍सीन की एक अरब डोज बनाएं. इससे एक अरब लोगों को एक-एक डोज मिल सकेगा. एक इंट्रानैसल वैक्सीन सुई, सिरिंज समेत अन्‍य मेडिकल चीजों के उपयोग को कम करने के लिए सरल होगी. यह एक टीकाकरण अभियान की समग्र लागत को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करता है.”

कोरोना पीड़ितों की संख्या 56 लाख के पार

गौरतलब है कि भारत में 24 घंटे में कोरोनावायरस के 83,347 नए मामले सामने आने के साथ बुधवार को कुल मामलों की संख्या 56 लाख को पार कर गई. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने यह जानकारी दी. कोरोना से 1,085 नई मौतें होने के साथ मरने वालों की कुल संख्या 90,020 तक पहुंच गईं, वहीं देश में इस बीमारी के कुल मामलों की संख्या 56,46,010 हो गई है.

भारत, अमेरिका के बाद महामारी से प्रभावित देशों में दूसरे स्थान पर है. अमेरिका में 2 लाख लोग कोविड-19 से जान गंवा चुके हैं. भारत में कुल मामलों में से 9,68,377 वर्तमान में सक्रिय हैं और 45,87,613 को अस्पतालों से छुट्टी दी जा चुकी है. जहां रिकवरी दर 81.25 प्रतिशत है, वहीं मृत्यु दर घटकर 1.59 प्रतिशत हो गई है.