बिश्केक में एक ही छत के नीचे PM मोदी ने इमरान से कुछ यूं बनाईं दूरियां

डिनर के दौरान दोनों नेता एक ही वक्त पर हॉल में आए थे लेकिन फिर भी पीएम मोदी और इमरान खान के बीच कोई बातचीत नहीं हुई.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शंघाई कॉर्पोरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) समिट में हिस्सा लेने के लिए किर्गिस्तान के बिश्केक में पहुंचे हैं. पीएम मोदी ने SCO सम्मेलन में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से मुलाकात की. पीएम मोदी के अलावा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी हिस्सा लेने पहुंचे हैं. लेकिन प्रधानमंत्री मोदी और इमरान खान के बीच किसी तरह की कोई मुलाकात नहीं हुई.

वहीं डिनर के दौरान दोनों नेता एक ही वक्त पर हॉल में आए थे लेकिन फिर भी पीएम मोदी और इमरान खान के बीच कोई बातचीत नहीं हुई. यह खबर पाकिस्तानी सूत्रों के हवाले से आई है. SCO सम्मेलन से इतर पीएम मोदी और इमरान खान के बीच कोई वार्ता नहीं होगी.

पीएम मोदी ने वहां मौजूद सभी देशों के राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात की, लेकिन इमरान खान से नहीं. पीएम मोदी इमरान खान के आगे-आगे चल रहे थे. हॉल में पीएम मोदी इमरान खान से सिर्फ तीन सीट दूर बैठे थे. गाला कल्चरल नाइट प्रोग्राम में भी दोनों नेता एक-दूसरे के आसपास ही रहे. मगर अब तक दोनों में कोई बातचीत नहीं हुई है.

पाकिस्तान की ओर से लगातार बात करने की पेशकश की जा रही है. लेकिन भारत का साफ कहना है कि जब तक सीमा पार से आतंकवाद नहीं रुकेगा, दोनों देशों के बीच कोई वार्ता नहीं होगी. पुलवामा आतंकी हमले और बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में कड़वाहट शीर्ष पर है.

हाल ही में भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि पीएम नरेंद्र मोदी और पाकिस्तानी पीएम के बीच बिश्केक के एससीओ सम्मेलन से इतर कोई बातचीत नहीं होगी. उन्होंने कहा था कि दोनों नेताओं के बीच कोई मीटिंग तय नहीं है. इसी रुख पर कायम रहते हुए पीएम मोदी ने इमरान खान की ओर न तो देखा और न ही हाथ मिलाया.

पुतिन का पीएम मोदी को न्योता

राष्ट्रपति पुतिन ने सितंबर की शुरुआत में रूस के व्लादिवोस्तोक में होने जा रहे ईस्टन इकोनॉमिक फोरम में पीएम मोदी को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया है. पीएम मोदी ने पुतिन के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है. इसके अलावा द्विपक्षीय मुलाकात में बताया गया कि जापान के ओसाका में G-20 शिखर सम्मेलन के मौके पर रूस, भारत और चीन त्रिपक्षीय बैठक होगी. विदेश सचिव ने बताया कि इस बैठक में किसी भी अंतर्राष्ट्रीय या क्षेत्रीय मुद्दे पर कोई चर्चा नहीं हुई क्योंकि पूरी तरह से ध्यान अगले वार्षिक शिखर सम्मेलन के लिए प्रधानमंत्री की यात्रा को सफल बनाने के लिए था. वहीं पीएम मोदी ने पुतिन से कहा, ‘मैं अमेठी में राइफल निर्माण इकाई के लिए आपके समर्थन के लिए बहुत आभारी हूं.’

पीएम मोदी का जिनपिंग को न्योता

इससे अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शी जिनपिंग को दोनों के संबंधों से अवगत कराया और जिनपिंग भी इस बात से सहमत हुए कि दोनों देशों को संबंध मजबूत करने की जरूरत है. पीएम मोदी ने जिनपिंग को अगले अनौपचारिक समिट के लिए न्योता दिया है. और उन्होंने भी भारत दौरे पर आने के लिए हामी भरी है. पीएम ने उल्लेख किया कि दोनों पक्षों के बीच रणनीतिक संचार में सुधार हुआ है. इस वजह से हम भारत में बैंक ऑफ चाइना की शाखा खोलने और मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट की सूची में डालने से संबंधित लंबे समय से लंबित मुद्दे का हल निकालने में सक्षम हो पाए हैं.

ये भी पढ़ें- शी जिनपिंग से मिले PM मोदी, कहा-बातचीत से पहले आतंक के खिलाफ एक्‍शन ले पाकिस्तान

ये भी पढ़ें- Video:राष्ट्रपति पुतिन से मिले PM मोदी, अमेठी का जिक्र करते हुए किया धन्यवाद