• Home  »  देश   »   बाबरी विध्वंस फैसला BJP को दे सकता है सियासी बढ़त, विपक्ष के लिए खड़ी होगी चुनौती

बाबरी विध्वंस फैसला BJP को दे सकता है सियासी बढ़त, विपक्ष के लिए खड़ी होगी चुनौती

बाबरी ढांचा विध्वंस (Babri demolition) के फैसले के बाद जिस तरह से BJP ने विपक्षी दल खासकर कांग्रेस (Congress) पर जिस तरह से निशाना साधा है, उससे यह साफ दिख रहा है कि बिहार के साथ UP और मध्य प्रदेश के उपचुनाव (MP by election) में इसकी गूंज जरूर सुनाई देगी.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 5:31 pm, Thu, 1 October 20

अयोध्या के ढांचा विध्वंस पर विशेष न्यायालय (Special Court) का फैसला BJP को सियासी बढ़त देने के संकेत दे रहा है. इससे पहले राम मंदिर (Ram temple) के आए फैसले और अब बाबरी विध्वंस में सभी बड़े नेताओं का बरी होना, आने वाले बिहार चुनाव और मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश में उपचुनाव में BJP के लिए काफी फायदेमंद हो सकते हैं. यह फैसला विपक्ष के लिए बड़ी चुनौती भी खड़ी कर सकता है.

फैसले के बाद BJP की जिस तरह से प्रतिक्रिया आयी और उधर कुछ मुस्लिम नेताओं ने फैसले के खिलाफ अपील की बात कही है, इससे साफ नजर आ रहा है कि यह मुद्दा आगे गरमाने वाला है. इसे लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने कांग्रेस को कटघरे में खड़ा किया है.

BJP को घेरने में होगी दिक्कत

राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो यह आने वाले चुनावों में निश्चित तौर पर मुद्दा बनेगा. BJP के स्टार प्रचारक इस मुद्दे को उठाने में जरा भी देरी नहीं करेंगे. विरोधी दलों के लिए थोड़ी मुश्किल बढ़ेगी, क्योंकि उनके लिए अदालत से आए इस फैसले पर संघ परिवार और BJP को घेरने में दिक्कत हो सकती है.

यह भी पढ़ें : ‘सत्य की जीत, इतिहास का काला दिन…’, बाबरी पर फैसले से यूं बंटे राजनीतिक दल

लेकिन मुस्लिम पक्ष से उठ रही विरोधी आवाज उन्हें जरूर परेशानी में डाल सकती है. इस मुद्दे को लेकर सियासत गरमाने और आरोप-प्रत्यारोप के दौर को नकारा नहीं जा सकता है, लिहाजा धुव्रीकरण की राजनीति को हवा देने में ये सफल हो सकते हैं. विपक्ष को राम मंदिर निर्माण और बाबरी विध्वंस पर आए फैसले से चुनौती भी मिलती दिख रही है.

राजनीति के केंद्र रहे हैं हैं ये मुद्दे

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक पी.एन. द्विवेदी कहते हैं कि राम मंदिर और बाबरी ढांचा विध्वंस (Babri demolition) के फैसले अदालत से भले आए हों, लेकिन इसका BJP सियासी लाभ लेने की पूरी कोशिश करेगी, क्योंकि उसके लिए यह मुद्दे पूरी राजनीति की धुरी रहे हैं. वैसे भी राम मंदिर निर्माण के आए फैसले के बाद मुख्यमंत्री योगी ने जिस तरह से अयोध्या (Ayodhya) पर फोकस किया है, इससे इस बात का बड़ा संकेत मिलता दिख रहा है.

मुख्यमंत्री योगी के विकास कार्य दिखाएंगे दम

फैसले के बाद जिस तरह से BJP ने विपक्षी दल खासकर कांग्रेस (Congress) पर जिस तरह से निशाना साधा है, उससे यह साफ दिख रहा है कि बिहार के साथ यूपी और मध्य प्रदेश के उपचुनाव में इसकी गूंज जरूर सुनाई देगी. उत्तर प्रदेश में भले ही सात सीटों पर चुनाव हो रहे हों, लेकिन मध्य प्रदेश और बिहार तक इसकी झलक देखने को मिल सकती है.

उन्होंने बताया कि 11 महीने के भीतर देश की सियासत के दो अहम निर्णय कोर्ट से आए हैं. इन्हें लेकर विपक्ष हमेशा BJP पर हावी रहा है. निश्चित तौर से ये निर्णय BJP को राजनीतिक रूप से बढ़त दिलाएगा. मुख्यमंत्री योगी द्वारा अयोध्या, मथुरा, काशी में कराए जा रहे विकास कार्यों के दम पर आगे और भी सियासी दांव पेंच देखने को मिलेंगे. (IANS)

यह भी पढ़ें : बाबरी ढांचा विध्वंस: केस-आरोपी-जज-सियासत-असर… जानें एकसाथ सबकुछ