‘श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी ने बंगाल को पाक में जाने नहीं दिया’, जनसंघ संस्‍थापक की जयंती पर बोले BJP नेता

BJP के राष्‍ट्रीय संगठन महामंत्री राम लाल ने कहा कि श्यामा प्रसाद और नेहरु की विचारधारा में बहुत अंतर था.

नई दिल्‍ली: भाजपा के राष्‍ट्रीय संगठन महामंत्री राम लाल ने कश्‍मीर समस्‍या के लिए पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को जिम्‍मेवार बताया है. जनसंघ के संस्‍थापक श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती पर राम लाल ने कहा कि ‘कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है. भारत की मूल भावना को कश्मीर से जोड़ना है.’

उन्‍होंने कहा, “नेहरु जी नीतियों के चलते कश्मीर इस हाल में है. श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी और नेहरु की विचारधारा में बहुत अंतर था. नेहरु की नीतियां थीं जिसके चलते एक राष्ट्र में दो विधान-दो निशान चलते हैं. पहले तो कश्मीर के सीएम को पीएम कहा जाता था लेकिन श्यामा प्रसाद जी ने इसका विरोध किया था जिसके चलते आज वहां के सीएम को सीएम कहा जाता है. श्यामा प्रसाद ने अपना बलिदान दिया.”

बीजेपी नेता ने आगे कहा कि ‘बंगाल भी पाकिस्तान में जा रहा था लेकिन श्यामा प्रसाद ने बंगाल को बचाने का काम किया. श्यामा प्रसाद की बात मानकर काग्रेस ने बंगाल को पाक में जाने नही दिया.’ उन्‍होंने कहा कि “जिस बंगाल में श्यामा प्रसाद जी का जन्म हुआ, वहां जल्द ही कमल खिलेगा. हम सभी को इसके लिए ज़ोर लगाना पड़ेगा.”

उन्‍होंने कहा कि ‘कांग्रेस कहती है कि हमने बलिदान दिया है लेकिन सही मायने में बीजेपी बलिदानी पार्टी है. श्यामा प्रसाद और दीनदयाल उपाध्याय सहित सैकड़ों बीजेपी कार्यकर्ताओं ने बलिदान दिया.”

वहीं, दिल्‍ली बीजेपी प्रमुख मनोज तिवारी ने श्यामा प्रसाद का दिया हुआ नारा दोहराने की कोशिश की, लेकिन नारा भूल बैठे. फिर बीजेपी नेताओं ने मनोज तिवारी को श्यामा प्रसाद का नारा याद दिलाया गया जिसमें उन्होने कहा था एक देश में दो निशान-दो विधान नही चलेगा.

श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी जयंती पर पीएम मोदी, अमित शाह ने क्‍या कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुखर्जी की जयंती पर ट्वीट किया, “महान शिक्षाविद् और प्रखर राष्ट्रवादी विचारक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को उनकी जयंती पर शत-शत नमन. राष्ट्रीय एकता और अखंडता के लिए उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा.”

गृहमंत्री अमित शाह ने लिखा, “डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी राष्ट्रभक्ति, त्याग और समर्पण के अद्वितीय प्रतीक हैं. उनका पूरा जीवन भारत की एकता और अखंडता के लिए समर्पित रहा. कश्मीर से परमिट राज समाप्त करने और उसे भारत का अभिन्न अंग बनाये रखने के लिये उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दे दी. ऐसे महान राष्ट्र नायक को नमन”

ये भी पढ़ें

नितिन गडकरी के निर्वाचन को मिली चुनौती, नाना पटोले ने खटखटाया कोर्ट का दरवाजा

विधायक अल्पेश ठाकोर ने छोड़ी कांग्रेस, कहा- पार्टी ने हमारे साथ धोखा किया