बीजेपी के इस नेता ने कहा- पाक पर स्ट्राइक से बढ़ रही हमारी सीटें

एक तरफ देश की सेना पाकिस्तान के साथ सरहद पर लड़ रही है, दूसरी तरफ देश के भीतर चुनाव का माहौल है. ऐसे में राजनीतिक दल एक-दूसरे पर शहादत की राजनीति के आरोप लगा रहे हैं. इस बीच किस बीजेपी नेता ने आतंकियों की करतूत को वोटों में भुनाने की बात कह डाली, जानिए.

नई दिल्ली: बीजेपी के सीनियर लीडर येदियुरप्पा को लगता है कि पाकिस्तान पर स्ट्राइक करके उनकी पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए बड़ा जुगाड़ कर लिया है. कर्नाटक के पूर्व सीएम ने कह दिया कि –“पाकिस्तान में आतंकवादी कैंपों पर भारत के हमले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में लहर बनी है और इससे पार्टी को कर्नाटक में 28 में से 22 सीटें जीतने में मदद मिलेगी.”

येदियुरप्पा ये बातें कोई छुप-छुपाकर अपने कार्यकर्ताओं के बीच नहीं बोल रहे थे, बल्कि चित्रदुर्ग में खुलेआम मीडिया के लोगों के सामने कह रहे थे.

अब तक विपक्ष ये आरोप लगाता रहा है कि पुलवामा और उसके बाद के हालात का इस्तेमाल बीजेपी चुनाव के लिए कर रही है. बुधवार को विपक्षी पार्टियों की बैठक के बाद राहुल गांधी ने कहा था कि- “देश की एकता-अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए सरकार राष्ट्र को भरोसे में लेकर ही कोई कदम उठाए. इस मुश्किल घड़ी में हम सेना के साथ हैं. लापता पायलट को लेकर हम चिंतित हैं.”

बालाकोट में भारतीय कार्रवाई के बाद कांग्रेस समेत 21 विपक्षी दलों ने बुधवार को दिल्ली में बैठक की थी. इस बैठक में युद्ध के हालात पैदा कर उसका राजनीतिक लाभ उठाने की कोशिश के आरोप भी लगाए गए. जबकि अब बीजेपी के ही एक वरिष्ठ नेता ने मान लिया है कि जो हालात हैं उसका चुनावी लाभ बीजेपी को मिलने जा रहा है.TV9 Bharatvarsh News Report, बीजेपी के इस नेता ने कहा- पाक पर स्ट्राइक से बढ़ रही हमारी सीटें


इस वक्त कर्नाटक की लोकसभा सीटों की स्थिति
बीजेपी के पक्ष में लहर चलने की बात करने वाले येदियुरप्पा के प्रदेश में इस वक्त 16 लोकसभा सीटों पर बीजेपी का कब्जा है, जबकि 10 कांग्रेस के पास और 2 जेडीएस के खाते में है. राज्य में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सिद्धारमैय्या सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी रुझान के बावजूद बीजेपी सत्ता से दूर रह गई थी. जबकि आमचुनाव के लिए कांग्रेस और जेडीएस में तालमेल के लिए सहमति बन जाने से बीजेपी की मुश्किलें और बढ़ने की उम्मीद है. लेकिन इसके बाद भी येदियुरप्पा को लगता है कि पाकिस्तान से दो-दो हाथ कर लेने के बाद बीजेपी इस मौके को वोट की शक्ल में कैश कर लेगी.

 

अपना बूथ सबसे मजबूत पर भी सवाल
सवाल है कि कौन देश हित की सोच रहा है और किसकी नजर चुनावों पर है. येदियुरप्पा के सवाल बीजेपी को मुश्किलों में डालने वाले हैं, तो बीजेपी का आज का ‘अपना बूथ सबसे मजबूत’ कार्यक्रम भी सवालों में आ गया है. सोशल मीडिया पर सवाल उठ रहे हैं कि क्या ऐसे माहौल में बीजेपी को ये कार्यक्रम जारी रखना चाहिए था? कहा जा रहा है कि इसमें 15 हजार जगहों से पार्टी के करीब 1 करोड़ कार्यकर्ता जुड़ेंगे.