यूपी-बिहार में टिकट के लिए घमासान, बीजेपी-कांग्रेस के इन दो नेताओं ने की बगावत

लोकसभा चुनावों की घोषणा के साथ ही टिकट के लिए घमासान भी शुरू हो गया है. भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों के नेता टिकट कटने पर बागी होते जा रहे हैं.

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले से भाजपा सांसद अंशुल वर्मा ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. वो समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल हो गए हैं. बताया जा रहा है कि वह हरदोई से अपना टिकट कटने को लेकर नाराज थे.

ये जानना दिलचस्प है कि अंशुल ने अपना इस्तीफा प्रदेश बीजेपी कार्यालय के एक सिक्यॉरिटी गार्ड को सौंपा. बता दें कि अंशुल की जगह बीजेपी ने इस बार हरदोई से जय प्रकाश वर्मा को उम्मीदवार बनाया है.

अंशुल ने कहा, “विकास किया है, विकास करेंगे, अंशुल थे अंशुल ही रहेंगे, चौकीदार न कहेंगे.”

उन्होंने कहा कि अगर विकास ही मानक था तो 24 हजार करोड़ रुपये लगाने की और विकास को आखिरी पायदान से चौथे पायदान पर लाने की सजा मिली है. सदन में मेरी उपस्थिति 95 प्रतिशत रही है, इसमें मेरा दोष कहा था यह समझ से परे है.

कौकब कादरी कांग्रेस से हुए बागी
बिहार में कांग्रेस नेता कौकब कादरी के पार्टी से बगावत करने की खबरें आ रही हैं. बताया जा रहा है कि कौकब ने काराकाट लोकसभा सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने की घोषणा की है. बता दें कि कौकब कादरी बिहार प्रदेश कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष हैं.

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के उपेंद्र कुशवाहा फिलहाल काराकाट से सांसद हैं. वहीं, बिहार एनडीए में इस बार काराकाट लोकसभा सीट जदयू के खाते में आई है. जदयू ने महाबली सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया है.