शान बघारने के चक्कर में बीजेपी ने कश्मीर से हटाया आर्टिकल 370: दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह ने आर्टिकल 370 पर एक बार फिर बड़ा बयान देते हुए कहा कि अपनी शान बघारने के चक्कर में कश्मीर का जो निर्णय लिया है, यह बिना कश्मीर के लोगों को विश्वास में लिए अच्छा नहीं किया गया है.

सीहोर:  मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने आर्टिकल 370 पर एक बार फिर बड़ा बयान देते हुए कहा कि अपनी शान बघारने के चक्कर में कश्मीर का जो निर्णय लिया है, यह बिना कश्मीर के लोगों को विश्वास में लिए अच्छा नहीं किया गया है. उनका कहना है कि इससे वहां संकट बढ़ेगा. यह मत भूलिए एक तरफ (कश्मीर के) चीन है एक तरफ पाकिस्तान है पास में अफगानिस्तान है आप समझ लीजिए कहां आपने किस मुसीबत में देश को डाल दिया है!

इसी के साथ दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर मुद्दे को लेकर भी बीजेपी पर हमला बोला है. उन्होंने कहा की मैं भगवान राम को किसी भी एक राजनीतिक दल के रूप में नहीं देखना चाहता. हिंदुत्व का धर्म से कोई लेना-देना नहीं है. अयोध्या में भगवान राम के सैंकड़ों मंदिर हैं, जिस मंदिर में जाओ वहां लोग कहते हैं कि राम जी का जन्म यहीं हुआ था. जंहा राम जी विराजे हुए थे राम जी की सेवा हो रही थी, उसे तोड़ दिया. पिछले 28 सालों से रामलला टेंट में विराजे हुए हैं रामलला के माध्यम से जो सत्ता में आए वह कई एयरकंडीशन कमरों में हैं और देश में राज कर रहे हैं. भगवान राम सबके हैं.

बीजेपी-आरएसएस पर हमला जारी रखते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि इन लोगों ने 1947 से पहले बिर्टिश हुकमत का साथ दिया था. हालांकि उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने हमेशा राष्ट्रीय काम पर बल दिया है.

दिग्विजय सिंह ने बीजेपी और संघ पर निशाना साधते हुए कंहा की क्या हैदराबाद को भारत मे बीजेपी ने शामिल कराया. उन्होंने सवाल किया कि क्या देश को बीजेपी या संघ ने आजाद कराया था? क्या कश्मीर को भारत का अंग बनाने में बीजेपी या आरएसएस का हाथ था? यह लोग तो 1947 के पहले ब्रटिश का साथ दे रहे थे और भारत छोड़ो आंदोलन में गांधी जी का विरोध कर रहे थे.

ये भी पढ़ें: कश्मीर पर अमेरिका को ब्लैकमेल कर रहा पाकिस्तान, अफगान सीमा से सेना हटाने की दी धमकी