देश के पहले वोटर को बनाया ‘चौकीदार’, एक्‍शन में EC

सुंदरनगर के एक भाजपा कार्यकर्ता ने ट्विटर पर श्याम सरन नेगी की फोटो वाला एक पोस्टर बनाकर उस पर मैं भी चौकीदार लिखा था और उसे सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा था.

नई दिल्ली: सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर देश के पहले वोटर श्याम सरन नेगी के नाम के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मैं भी चौकीदार’ वाले पोस्ट डालने के खिलाफ चुनाव आयोग ने कार्यवाही करने का आदेश दिया है. सुंदरनगर के भाजपा कार्यकर्ता ने ट्विटर पर श्याम सरन नेगी की फोटो वाला एक पोस्टर बनाकर उस पर मैं भी चौकीदार लिखा था और उसे सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा था. जिस पर अब निर्वाचन विभाग ने संज्ञान लिया है.

Shyam saran negi, देश के पहले वोटर को बनाया ‘चौकीदार’, एक्‍शन में EC
राज्य निर्वाचन आयोग ने अपने एसवीईईवी अभियान के लिए नेगी को ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया है.

चुनाव आयोग ने किन्नौर जिला निर्वाचन अधिकारी को इसको लेकर निर्देश जारी किए हैं जिसके बाद अधिकारियों ने श्याम सरन नेगी के पास जा कर उनके बयान दर्ज किये. बयान में उन्होंने साफ तौर पर किसी को भी अपना फोटो प्रयोग करने की अनुमति देने से मना कर दिया है. वहीं अब श्याम सरन नेगी के फोटो का प्रयोग करने वाले के खिलाफ चुनाव आयोग कार्यवाही करेगा.

श्याम सरन नेगी का फोटो सिर्फ चुनावो में चुनाव आयोग ही प्रयोग कर सकता है और किसी को उनकी अनुमति के बिना प्रचार के लिए उनके फोटो का प्रयोग नही किया जा सकेगा. जिला सहायक निर्वाचन अधिकारी सुरेन्द्र चौहान ने इस बारे में चुनाव आयोग से बात की और कहा कि जिसने भी इनके फोटो के साथ छेड़खानी की है उसको कानूनी रूप से सजा होगी.

श्याम सरन नेगी हिमाचल के उन मतदाताओं में से एक हैं जिनकी आयु 100 साल या उससे ज्यादा है. नेगी ने 1951 के बाद से हुए हर आम चुनाव में मतदान किया है. 1 जुलाई को नेगी 103 साल के हो जाएंगे. 19 मई को लोकसभा चुनाव में वे 17वीं बार मतदान करेंगे.