शोपियां मुठभेड़ में मारे गए 3 लोगों के शव कब्र से निकालकर परिजनों को सौंपे जाएंगे

सुरक्षाकर्मियों ने शोपियां में मुठभेड़ के दौरान AFSPA का गलत इस्तेमाल करते हुए इन तीनों को मार डाला था.

प्रतीकात्मक तस्वीक
प्रतीकात्मक तस्वीक

दक्षिणी कश्मीर के शोपियां जिले में 18 जुलाई को हुई मुठभेड़ में मारे गए तीन लोगों के शव कब्र से बाहर निकाले जाएंगे और कानूनी प्रक्रिया के बाद उनके परिवारों को सौंप दिए जाएंगे. कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक (IG) विजय कुमार ने बुधवार को ये जानकारी दी. पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा, “चूंकि मृतकों के DNA के सैंपल परिवार के साथ मेल खाते हैं, इसलिए तीनों शवों को निकाला जाएगा और कानूनी प्रक्रिया के बाद उन्हें परिवारों को सौंप दिया जाएगा.”

इससे पहले, जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) के राजौरी (Rajouri) जिले से आए परिवार के सदस्यों के DNA के सैंपल तीन व्यक्तियों इम्तियाज अहमद, अबरार अहमद और मोहम्मद इबरार के साथ मिलान किए गए थे.

सीबीआई ने पेश की गलत दलीलें, बाबरी केस में कोर्ट के फैसले पर बोले अबू आजमी

दरअसल शोपियां में एक आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान सुरक्षा बलों ने इन तीनों को मार डाला था. सेना की एक जांच में बाद में पाया गया कि सुरक्षाकर्मियों ने मुठभेड़ के दौरान सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (AFSPA) के तहत अपनी शक्तियों का नाजायज उपयोग किया है.

जम्मू-कश्मीर पुलिस और सेना ने मृतक के परिवारों की फरियाद पर जांच शुरू की, जिन्होंने कहा कि वह लापता हो गए थे और उन्हें सोशल मीडिया के जरिए वायरल हुई तस्वीरों में उनके मुठभेड़ में मारे जाने का पता चला. पुलिस ने इस मामले में अब तक दो लोगों को गिरफ्तार किया है, जो संदेह के दायरे में हैं. पुलिस की ओर से उनसे पूछताछ की जा रही है.

15 दिन…दरिंदगी…लापरवाही और हर रोज़ बेदम होती पीड़िता, हाथरस गैंगरेप केस की पूरी कहानी

Related Posts