स्कूलों में मिड-डे मील के साथ दिया जाए ब्रेकफास्ट, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में बड़ी सिफारिश

कैबिनेट (Cabinet) द्वारा मंजूर की गई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy) में इस बात का जिक्र किया गया है कि पौष्टिक नाश्ते के बाद सुबह का वक्त ज्यादा मांग वाले विषयों के लिए प्रोडक्टिव होगा.
Breakfast for school children should be provided, स्कूलों में मिड-डे मील के साथ दिया जाए ब्रेकफास्ट, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में बड़ी सिफारिश

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy) में कहा गया है कि सरकारी या सहायता प्राप्त स्कूलों में छात्रों को दिए जाने वाले मिड डे मील (Mid-Day meal) के साथ उन्हें ब्रेकफास्ट (Breakfast) भी दिया जाना चाहिए. इस सप्ताह के आखिर में कैबिनेट द्वारा मंजूर की गई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में इस बात का जिक्र किया गया था कि पौष्टिक नाश्ते के बाद सुबह का वक्त ज्यादा मांग वाले विषयों के लिए प्रोडक्टिव होगा. स्कूलों में ब्रेकफास्ट को शामिल कर मिड डे मील को विस्तार देने की सिफारिश की गई है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

नई शिक्षा नीति (NEP) में कहा गया है कि जब बच्चों को सही पोषण नहीं मिल पाता तो वो सीखने में असमर्थ होते हैं. इसलिए बच्चों के पोषण (मानसिक स्वास्थ्य सहित) को स्वस्थ भोजन, अच्छी तरह से सामाजिक कार्यकर्ताओं और परामर्शदाताओं और स्कूली शिक्षा प्रणाली में सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से बेहतर किया जा सकता है.

रिसर्च के मुताबिक पौष्टिक नाश्ते के बाद सुबह के घंटे कॉग्निटिवली सब्जेक्ट्स की स्टडी के लिए प्रोडक्टिव होते हैं. इसलिए इसमें नाश्ते को जोड़े जाने की सिफारिश की गई है. ऐसी लोकेशंस जहां गर्म खाना परोसा जाना संभव नहीं है, वहां पौष्टिक भोजन जिसमें मूंगफली या चना गुड़ और स्थानीय फलो को एड किया जाना चाहिए. इसके साथ ही स्कूली बच्चों को 100 फीसदी टीकाकरण के लिए नियमित जांच से गुजरना होगा और हेल्थ कार्ड भी उसे मॉनीटर करने के लिए इश्यू किए जाएंगे.

संशोधित नीति में प्रस्ताव है कि 5 साल की उम्र से पहले हर बच्चा प्राईमरी क्लास या फिर बालवाटिका में चला जाएगा.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts