विकीपीडिया की तर्ज पर ‘गांधीपीडिया’ लेकर आएगी मोदी सरकार, पढ़ें क्‍या है प्‍लान

2 अक्‍टूबर, 2019 को महात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती है. इस मौके के लिए साल भर पहले से ही तैयारियां शुरू हो चुकी हैं.

नई दिल्‍ली: वित्‍तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट 2019-20 में महात्‍मा गांधी के आदर्शों और जीवन से जुड़ी जानकारी देने के लिए एक वेबसाइट बनाने की घोषणा की है. मशहूर विकी ‘विकीपीडिया’ की तर्ज पर इस वेबसाइट का नाम ‘गांधीपीडिया’ रखा गया है. इस साइट पर महात्‍मा गांधी के जीवन से जुड़ी सामग्री तो मिलेगी ही, उनपर बनी फिल्‍में, डॉक्‍युमेंट्री और ऐतिहासिक तस्‍वीरें भी उपलब्‍ध कराई जाएंगी.

मोदी सरकार की यह योजना इसलिए महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि 2 अक्‍टूबर, 2019 को महात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती है. इस अवसर के लिए साल भर पहले से ही तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. ‘गांधीपीडिया’ के लिए ‘वैष्‍णव जन’ के नाम से एक एनिमेशन फिल्‍म भी बनाई जा रही है.

गुजरात में महात्‍मा गांधी के जन्मस्थान पोरबंदर से दिल्ली तक ‘खादी एक्सप्रेस’ नाम से एक नई ट्रेन शुरू की जाएगी. 50 देशों में भारतीय दूतावासों में ग्लोबल खादी प्रदर्शनी लगाई जाएगी. सबसे पिछड़े 115 जिलों समेत देश के 300 जिलों में ‘खादी संगम’ के नाम से खादी प्रदर्शनी लगाने के साथ-साथ देशभर में खादी फैशन शो का आयोजन किया जाएगा.

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को संसद में नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश किया. उन्‍होंने अपने पहले बजट भाषण में ‘सशक्त राष्ट्र, सशक्त नागरिक’ के सिद्धांत पर जोर दिया. सीतारमण ने कहा कि इंडिया इंक देश में रोजगार और धन का सर्जक है. उन्‍होंने कहा कि देश से लाइसेंस राज का जमाना चला गया है.

उन्‍होंने कहा कि वित्त वर्ष 2019-20 में भारत की अर्थव्यवस्था 3,000 अरब डॉलर की होगी. उन्होंने यह भी कहा कि देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए कई संरचनात्मक बदलाव करने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें

रेल-रोड-एयरपोर्ट कनेक्टिविटी बढ़ाने पर जोर, गंगा के रास्ते चार गुना बढ़ जाएगी आवाजाही

वन नेशन वन कार्ड: मेट्रो हो या टोल, हर जगह एक कार्ड से होगा डिजिटल पेमेंट

पिछले सारे वित्‍तमंत्रियों से अलग हैं निर्मला सीतारमण, तोड़ी ब्रीफकेस में बजट लाने की परंपरा