भविष्य में कांग्रेस के वित्त मंत्री बजट ब्रीफकेस की बजाय आई-पैड लाएंगे: चिदंबरम

बजट को लेकर पक्ष और विपक्ष के लोगों ने अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दी हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 'आम बजट देश के गरीबों को सशक्त बनाएगा.'

नई दिल्ली: शुक्रवार को संसद में मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आम बजट पेश हुआ. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के साथ-साथ राहत देने के इरादे से बजट पेश किया.

बजट को लेकर पक्ष और विपक्ष के लोगों ने अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दी हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ‘आम बजट देश के गरीबों को सशक्त बनाएगा. उन्होंने कहा कि इससे युवाओं को बेहतर भविष्य मिलेगा. ये देश को समृद्ध और जन-जन को समर्थ बनाने वाला बजट है. इस बजट के माध्यम से मध्यम वर्ग को प्रगति मिलेगी. विकास की रफ्तार को गति मिलेगी. इस बजट से टैक्स व्यवस्था में सरलीकरण होगा, इन्फ्रास्ट्रक्चर का आधुनिकीकरण होगा ये बजट उद्यम और उद्यमों को मजबूत बनाएगा, देश में महिलाओं की भागीदारी को और बढ़ाएगा.’

‘ये एक ग्रीन बजट है जिसमें पर्यावरण, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और सोलर सेक्टर पर विशेष बल दिया गया है. पिछले 5 साल में देश निराशा के वातावरण को पीछे छोड़ चुका है. आज देश उम्मीदों और आत्मविश्वास से भरा हुआ है. इस बजट में आर्थिक जगत के रिफॉर्म भी हैं. आम नागरिक के लिए ईज ऑफ लिविंग भी है और साथ ही गांव और गरीब का कल्याण भी है. इस बजट से युवाओं को बेहतर कल मिलेगा.’

युवाओं के रोजगार पर, किसान की आय दोगुना करने की तैयारी पर, व्यापारियों, कर्मचारियों को टैक्स में राहत देने पर बजट खामोश रहा. ये टैक्स का अतिरिक्त भार और सरकारी कम्पनियों को बेचने की तैयारी करने वाला बजट है.

राबड़ी देवी ने बजट जुड़ी नकारात्मक प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा, ‘आम आदमी के लिये बजट ठीक नही है. जनता को मूर्ख बना कर वोट लिया अब बजट में भी बेवकूफ बनाया.’

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, ‘बजट से हमारे कर्जदार किसानों को कोई राहत नहीं.’

संदीप सोमानी ने कहा, ‘बजट अच्छा है. वाइड रेंज में इस बजट को कवर किया गया है. रेलवे में PPP मॉडल अच्छा है. इस बजट में 3 करोड़ प्राइवेट रिटेलर्स को पेंशन योजना में कवर किया जा रहा है.’

IMC की पूर्व प्रेसिडेंट और बिसनेसमैन भावना जोशी ने कहा, ‘महिला को बजट पढ़ते हुए देखकर बहुत अच्छा लगा. निर्मला सीतारमण में उन हर जगह को मद्देनजर बजट पेश किया जहां जहां जरूरत थी. कुछ चीज़ें मिस हुई अगर वो हो जाती तो और अच्छा लगता. लेकिन इस बजट से बिजनेस से जुड़े होने के करण खुश है.  मुंबईकर होने के नाते कुछ खास नही मिला और इस बजट को मैं 10 में से 8 नम्बर दूंगी.’

बिसनेसमैन रतनकुमार पोद्दार ने कहा, ‘निर्मला जी को पहले बधाई की एक महिला ने ये बजट पेश किया है. मैं टेक्सटाइल इंडस्ट्री से हूं और मुझे थोड़ी निराशा हुई है इस बजट से. दुख की बात है कि कृषि के बाद टेक्सटाइल जो सबसे ज्यादा रोजगार देता है उसके बारे में उन्होंने दो शब्द भी नहीं कहा. एक मुंबईकर होने के नाते ये बजट अच्छा है. मैं उन्हें 10 में से 7 मार्क्स देता हूं.’

यह बजट गांव-गरीब, पशु एवं मत्स्य पालन,स्टार्ट-अप्स, रोजगार करने वाले, महिला, डिजिटल इंडिया, सोशल सिक्योरिटी हर घर रोड/बिजली एवं हिंदुस्तान की नींव को मजबूत करने वाला है ताकि इस पर भविष्य का हिंदुस्तान बनाया जा सके.

यह बजट तत्काल के हिंदुस्तान और भविष्य के सशक्त हिंदुस्तान को देखते हुए बनाया गया एक शानदार बजट है. मैं मा० प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी एवं वित्त मंत्री मा० निर्मला सीतारमण जी एवं उनकी टीम को इस बजट के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं.

चिदंबरम ने कहा, ‘यह सरकार इस विचार से ग्रस्त है कि लोगों को कैश का इस्तेमाल कम करना चाहिए जबकि एडवांस इकॉनमी में कैश का उपयोग भी जरूरी है. बजट ब्रीफकेस के बजाय चार गुना लाल कपड़े में बजट दस्तावेज रखते हैं, इसे मुझसे ले लो. हमारे कांग्रेस के वित्त मंत्री भविष्य में आई-पैड लाएंगे.’

बजट 2019 नए भारत में कैसे आर्थिक विकास जन आंदोलन का रूप ले रहा है उसका एक अखंड चित्रण है. यह नरेन्द्र मोदी जी के नव-कल्याणकारी राज्य की अवधारणा का घोषणा पत्र भी है.

डेरेक ओ’ब्रायन ने कहा, ‘ये बजट सपने दिखाने वाला बजट है. ये बजट सिर्फ काले सपने की तरह है. ये लोग मीडिया और हर क्षेत्र को बेच रहे हैं.’