मतदान केंद्र में चली गोली, एक वोटर की मौत

मुर्शिदाबाद में 96 फीसदी पोलिंग बूथों पर CAPF के जवान तैनात हैं. कड़े सुरक्षा इंतजामों के बावजूद यहां पर मतदान प्रक्रिया प्रभावित हो रही है.

मुर्शिदाबाद: पश्चिम बंगाल की पांच सीटों पर मतदान के लिए केंद्रीय बलों की 324 से ज्यावदा कंपनियां तैनात की गई हैं. सबसे ज्याशदा मुर्शिदाबाद में सुरक्षा दी गई है. बावजूद इसके उपद्रवी मतदान में खलल पैदा करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. बंगाल में बढ़ रही हिंसा की वजह से एक वोटर की मौत हो गई है.

यह घटना मुर्शिदाबाद के हरिहरपाड़ा स्थित कुमारीपुर गांव की है. यहां पर वोटिंग प्रक्रिया के चलते कांग्रेस और टीएमसी समर्थकों के बीच गरमागरमी के चलते झड़प शुरू हुई. इस दौरान कांग्रेस नेताओं और एजेंट को निशाना बनाकर गोली चलाई गई. गोली वोट डालने के लिए लाइन में लगे व्यक्ति को लगी और उसकी मौत हो गई. कांग्रेस उम्मीदवार अबु हीना के मुताबिक जिस वोटर की मौत हुई है, वो कांग्रेस का कार्यकर्ता है.

गौरतलब है कि मुर्शिदाबाद में मतदान का माहौल खराब चल रहा है, तमाम सुरक्षा इंतजामों के बाद भी यहां पर मतदान को प्रभावित करने की कोशिश जारी है. मतदान शुरू होने के साथ ही यहां पर वोटर्स की अच्छी खासी भीड़ थी लेकिन 10 बजे तक हिंसा शुरू हो गई और माहौल में बदलाव आ गया.

बंगाल में हर बार ही चुनाव के वक्त हिंसक घटनाएं सामने आती रही हैं. राज्य की मौजूदा सरकार पर बीजेपी ने कई बार लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया है. इससे पहले मुर्शिदाबाद के रानीनगर इलाके में भी वोटिंग के दौरान उपद्रवियों ने पोलिंग बूथ के पास देसी बम मारकर वोटर्स को डराने और वोटिंग रोकने की कोशिश की.

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में अज्ञात लोगों ने पोलिंग स्टेाशन के बाहर देसी बम फेंककर तृणमूल कांग्रेस के तीन कार्यकर्ताओं को घायल कर दिया. ANI के अनुसार, घटना डोमकाल नगर पालिका के वार्ड नंबर 7 में हुई. घायलों के नाम तुजाम अंसारी, मसदुल इस्लालम और मलिक मंडल हैं. पुलिस के अनुसार, घायलों में से एक डोमकाल से पार्षद का पति है. सभी घायलों को मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि हमलावरों के चेहरे ढंके थे, इसलिए उनकी पहचान नहीं हो सकी.

बता दें कि मुर्शिदाबाद कम्युीनिस्टो पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सेवादी) का गढ़ रहा है. पार्टी यहां 1980 के बाद से सिर्फ दो बार हारी है. मुर्शिदाबाद से फिलहाल सीपीएम के बदरूद्दोजा खान सांसद हैं. यहां से बीजेपी के हुमायूं कबीर के खिलाफ टीएमसी ने अबू ताहिर खान को उम्मीददवार बनाया है.