राहुल, प्रियंका और केजरीवाल ने CAA पर लोगों को गुमराह किया : अमित शाह

अमित शाह ने कहा कि धारा 370, तीन तलाक और राम मंदिर निर्माण तक का विपक्षी पार्टियां विरोध कर रही हैं. नागरिकता कानून पर समर्थन जुटाने के लिए जारी किए गए टोल फ्री नंबर के बारे में जारी अफवाह पर अमित शाह ने कहा कि यह मोबाइल नंबर भाजपा का है.

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर विपक्ष पर रविवार को यहां जमकर निशाना साधा. अमित शाह ने कहा कि नागरिकता कानून पर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा ने जनता को गुमराह किया और दंगे करवाने का काम किया है. यहां इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में भाजपा की ‘अपना बूथ, सबसे मजबूत’ रैली को संबोधित करते हुए शाह ने आरोप लगाया कि संसद में पारित नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दल काम कर रहे हैं.

अमित शाह ने यह भी कहा कि धारा 370, तीन तलाक और राम मंदिर निर्माण तक का विपक्षी पार्टियां विरोध कर रही हैं. नागरिकता कानून पर समर्थन जुटाने के लिए जारी किए गए टोल फ्री नंबर के बारे में जारी अफवाह पर अमित शाह ने कहा कि यह मोबाइल नंबर भाजपा का है.

दिल्ली में भाजपा के 35 हजार बूथ कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र देने के लिए यह रैली आयोजित की गई थी, जिसमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और भाजपा के कई बड़े नेता मौजूद थे.

अमित शाह ने दिल्‍ली विधानसभा चुनाव जीतने के लिए बूथ वर्कर्स को कई टिप्स दिए. उन्होंने कहा, “1984 में सिखों का नरसंहार हुआ, कई सिख भाई-बहनों को मारा गया. कांग्रेस की सरकारें उनके घावों पर मरहम नहीं लगाती थी. मोदी सरकार ने हर पीड़ित को पांच-पांच लाख रुपये का मुआवजा दिया और जो दोषी थे, उन्हें जेल की सलाखों के पीछे डालने का काम किया. इस बात को सिख भाइयों तक पहुंचाएं.”

केजरीवाल सरकार पर आरोपों की बौछार करते हुए अमित शाह ने कहा कि पिछले पांच साल में केजरीवाल ने कोई काम नहीं किया, सिर्फ विज्ञापन पर पैसा बर्बाद किया.

अमित शाह ने बूथ कार्यकर्ताओं को कहा कि सिर्फ रैली और सभाओं से दिल्ली का चुनाव नहीं जीता जा सकता, इसलिए जरूरी है कि सभी कार्यकर्ता दिल्ली में घर-घर मोदी जी का संदेश और उपलब्धियों को पहुंचाएं. अमित शाह ने याद दिलाया कि 20 साल से दिल्ली में भाजपा की सरकार नहीं है, और इस बार यहां भाजपा की सरकार बनाएं.