CAIT ने केंद्रीय मंत्री से की चीनी कंपनियों हुवावे और ZTE पर तुरंत रोक लगाने की मांग

प्रवीण खंडेलवाल (Praveen Khandelwal) ने कहा कि हुवावे और ZTE, दोनों चीनी कंपनियों (China Companies) ने भारत में रोल आउट किए जाने के लिए 5G नेटवर्क के इंफ्रास्ट्रक्चर में भाग लेने के लिए आवेदन किया है.

demand for ban on huawei and zte, CAIT ने केंद्रीय मंत्री से की चीनी कंपनियों हुवावे और ZTE पर तुरंत रोक लगाने की मांग

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने मंगलवार को केंद्रीय संचार और प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) को एक पत्र भेजकर भारत में 5G नेटवर्क रोल आउट में चीनी कंपनी हुवावे (Huawei) और ZTE कॉर्पोरेशन के भाग लेने पर तुरंत प्रतिबंध लगाने की मांग की है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

कैट ने अपने पत्र में कहा कि देश की सुरक्षा, संप्रभुता और डेटा सुरक्षा के लिए यह प्रतिबंध बेहद जरूरी है. कैट ने यह मांग चीनी सामानों के बहिष्कार (Boycott China Goods) को लेकर 10 जून को घोषित राष्ट्रीय अभियान ‘भारतीय सामान-हमारा अभिमान’ के तहत की है.

प्रवीण खंडेलवाल ने केंद्रीय मंत्री से की यह मांग

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल (Praveen Khandelwal) ने केंद्रीय मंत्री प्रसाद को भेजे पत्र में कहा है, “चीन के हुवावे और ZTE कॉर्पोरेशन के भारत में 5G नेटवर्क रोल आउट में भाग लेने पर प्रतिबंध लगाने के साथ ही सरकार यह प्रतिबंध भी लगाए कि इन दोनों चीनी कंपनियों की टेक्नोलॉजी और उनके सामानों को कोई भी कंपनी 5G नेटवर्क के रोल आउट में इस्तेमाल न करे.”

उन्होंने कहा, “यह पता चला है कि हुवावे और ZTE, दोनों चीनी कंपनियों (China Companies) ने भारत में रोल आउट किए जाने के लिए 5G नेटवर्क के इंफ्रास्ट्रक्चर में भाग लेने के लिए आवेदन किया है.”

बैन लगाने से भारतीय टेक्नोलॉजी को मिलेगा फायदा

जून के महीने में सरकार के उठाए गए अलग-अलग कदमों का हवाला देते हुए कैट ने कहा कि यदि चीनी कंपनियों को यह अनुमति दी जाती है तो वह उसके लिए निश्चित रूप से 5G नेटवर्क के लिए जरूरी सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर बनाने के अवसर को हड़पने का एक मौका होगा और भारतीय दूर संचार (Indian Telecom) पर चीनी कंपनियों का लगभग कब्जा करने का रास्ता मजबूत करेगा, जबकि प्रतिबंध लगने पर भारतीय कंपनियों को अपनी टेक्नोलॉजी को आगे ले जाने का मौका मिलेगा, जो देश के निर्यात और आयात (Exports and Imports) में सुधार के लिए काफी हद तक फायदेमंद होगा.

कैट ने कहा, “बड़ी आशंका है कि हुवावे अपनी टेक्नोलॉजी सिस्टम में एक निगरानी तंत्र (Monitoring Mechanism) तैयारी कर सकती है, जिसके जरिए किसी भी तरह की इन्फॉर्मेशन या डेटा पर निगरानी रखी जा सकेगी.” (IANS)

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts