तेलंगाना: निजामाबाद में नियमों का खुला उल्लंघन, ऑटो से ले जाया गया Corona मरीज का शव

कोरोना (Corona) मरीज़ के शव को नियमों के खिलाफ ऑटो में ले जाने का मामला निजामाबाद (Nizamabad) शहर में सामने आया है. नियमों के अनुसार, कोरोना के कारण मौत होने के बाद शव को एंबुलेंस या एस्कॉर्ट वाहन में ले जाना चाहिए.
carelessness of hospital staff in Telangana, तेलंगाना: निजामाबाद में नियमों का खुला उल्लंघन, ऑटो से ले जाया गया Corona मरीज का शव

तेलंगाना (Telangana) में कोरोना मरीजों और उनके शवों को लेकर आए  दिन दिल दहलाने और सोचने पर मजबूर करने वाली घटनाएं सामने आ रही हैं. हाल ही में कोरोना (Corona) मरीजों के शवों की अदला-बदली का मामला सामने आया था. जहां अंतिम संस्कार के लिए ले गए एक शव को श्मशान वाटिका से गांधी अस्पताल वापस लाया गया, क्योंकि वह गलत परिवार को दे दिया गया था. बाद में मृतक के शव को उसके परिजनों को सौंपा गया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

नियमों के अनुसार, कोरोना से मौत होने पर व्यक्ति के शव को एंबुलेंस में ले जाना चाहिए

ये सिलसिला यहीं पर थमा नहीं है. इसी क्रम में एक कोरोना मरीज़ के शव को नियमों के खिलाफ ऑटो में ले जाने का मामला निजामाबाद (Nizamabad) शहर में सामने आया है. वैसे तो नियमों के अनुसार, कोरोना के कारण मौत होने के बाद व्यक्ति के शव को एंबुलेंस या एस्कॉर्ट वाहन में ले जाना चाहिए. शव को ले जाते समय कर्मचारियों को पीपीई किट (PPE Kit) पहनना होता है. मगर निजामाबाद के इस मामले में COVID-19  के नियमों का धड़ल्ले से उल्लंघन किया गया है.यहां अस्पताल प्रबंधन ने कोरोना मरीज के शव को ऑटो में डालकर भेज दिया.

चौंकाने वाली बात यह रही कि ऑटो चालक और शव के साथ बैठा व्यक्ति ना ही ठीक से मास्क पहने हुए थे और न ही पीपीई किट. अस्पताल प्रबंधन ने इस लापरवाही का स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि अस्तपाल में मात्र एक एंबुलेंस है. अस्पताल में एक साथ तीन मरीजों की मौत हो गई थी, ऐसे में एक शव को ऑटो में भेजना पड़ा. राज्य सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लिया है, DME  डॉ रमेश रेड्डी ने जांच के आदेश दिए हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts