अपने ही पूर्व डायरेक्‍टर राकेश अस्थाना की जांच के लिए CBI को मिला 2 महीने का टाइम

राकेश अस्थाना पर मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से दिसंबर 2017 से अक्टूबर 2018 के बीच कम से कम पांच बार रिश्वत लेने का आरोप है.
राकेश अस्थाना, अपने ही पूर्व डायरेक्‍टर राकेश अस्थाना की जांच के लिए CBI को मिला 2 महीने का टाइम

अपने पूर्व निदेशक राकेश अस्थाना से जुड़े मामले की जांच के लिए CBI को और वक्‍त मिल गया है. दिल्‍ली हाई कोर्ट ने बुधवार को जांच एजेंसी को दो महीने की मोहलत और दे दी.

CBI ने कोर्ट से जांच पूरी करने के लिए तीन महीने का समय मांगा था. पहले हाई कोर्ट ने अस्‍थाना के कथित भ्रष्‍टाचार मामले की जांच के लिए CBI को 30 सितंबर तक का वक्‍त दिया था.

राकेश अस्थाना पर घूस लेने का आरोप

सीबीआई ने पिछले साल राकेश अस्थाना पर घूस लेने के आरोप में केस दर्ज़ किया था. अस्थाना पर मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से मामले का निपटारा करने के लिए घूस लेने का आरोप लगाया गया था.

दिसंबर 2017 से अक्टूबर 2018 के बीच कम से कम पांच बार रिश्वत लिए जाने का आरोप है. विवाद इतना बढ़ा था कि राकेश अस्थाना ने तत्कालीन CBI निदेशक आलोक वर्मा पर रिश्वत लेने का आरोप लगाया था.

केंद्र सरकार ने तत्कालीन सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और और डिप्टी CBI निदेशक राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया था. दोनों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया था.

31 मई को दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले में एजेंसी को चार महीने में जांच प्रक्रिया पूरा करने का आदेश दिया था. सीबीआई एसपी सतीश सिंह डागर को एके बस्सी की जगह इस केस में इंवेस्टिंग ऑफ़िसर बनाया गया था.

डागर ने पिछले महीने वॉलंटरी रिटायरमेंट के लिए आवेदन किया है.

ये भी पढ़ें

राकेश अस्थाना ने धमकी दी थी, साथ नहीं दिया तो जिंदगी नर्क कर देंगे- क्रिश्चियन मिशेल

Related Posts