‘विदेशों में कोरोना से 373 भारतीयों की मौत, फंसे लोगों की मदद में 22.5 करोड़ खर्च’

विदेश राज्यमंत्री वी. मुरलीधरन ने लोकसभा में बताया कि कोरोना (Corona) काल में विदेशों में रहने वाले भारतीयों की दूतावासों (Indian Embassy) ने भारतीय सामुदायिक संगठनों के माध्यम से मदद की. भोजन, आवास से लेकर आपातकालीन इलाज व्यवस्था भी उपलब्ध कराई गई.

कोरोनाकाल में विदेशों में फंसे भारतीयों की मदद करने में जहां 22.5 करोड़ रुपये खर्च हुए, वहीं वायरस के कारण 373 नागरिकों की मौत भी हुई है. यह जानकारी केंद्र सरकार ने सोमवार को लोकसभा में दी. विदेश राज्यमंत्री वी. मुरलीधरन (V Muraleedharan) ने बताया कि 10 सितंबर, 2020 के आंकड़ों के मुताबिक, विदेश में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित भारतीयों की संख्या 11,616 है. इनमें से कोरोना के कारण 373 भारतीयों की जान गई.

विदेश राज्यमंत्री ने बताया कि कोरोनाकाल में विदेशों में रहने वाले भारतीयों की दूतावासों (Indian Embassy) ने भारतीय सामुदायिक संगठनों के माध्यम से मदद की. भोजन, आवास से लेकर आपातकालीन इलाज व्यवस्था भी उपलब्ध कराई गई. विदेशों में फंसे भारतीयों की सहायता के लिए भारतीय सामुदायिक कल्याण कोष से 22.5 करोड़ रुपये खर्च हुए है.

सऊदी अरब में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित भारतीयों की जान गई

उन्होंने कुल 73 देशों में कोरोना संक्रमित भारतीयों का आंकड़ा बताते हुए कहा कि सऊदी अरब (Saudi Arab) में सर्वाधिक 284 और बहरीन में 30 भारतीयों की मौत हुई है. सिंगापुर में 10 सितंबर तक के आंकड़ों के मुताबिक, 4618 भारतीय संक्रमित हैं.

मंत्री मुरलीधरन ने यह जवाब, केरल के आटिंगल लोकसभा सीट से कांग्रेस सांसद अदूर प्रकाश के सवाल पर दिया. सांसद अदूर ने पूछा था कि क्या सरकार के पास विदेशों में कोविड-19 से संक्रमित भारतीयों का आंकड़ा है? भारतीय मिशनों की ओर से किस प्रकार से सहायता पहुंचाई गई? जिस पर विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने कुल 73 देशों में कोरोना संक्रमित भारतीयों का आंकड़ा उपलब्ध कराया.

Related Posts