पूरा हुआ देश की नदियों को जोड़ने का ‘अटल सपना’, केबीएलपी परियोजना का प्रारुप लगभग तैयार

केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय पूर्व पीएम (Former PM) अटल बिहारी वाजपेयी के सपने को साकार करने में जुटा है. केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh shekhawat) ने टीवी 9 भारतवर्ष से बातचीत में कहा कि देश की नदियों को जोड़ने की पहली योजना लगभग तैयार हो चुकी है.

बीजेपी सरकार (BJP Government) पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के ड्रीम प्रोजेक्ट (Dream Project) को पूरा करने में जुटी हुई है. पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने पानी की कमी को पूरा करने और पानी के विरतण को ध्यान में रखते हुए देश की नदियों को जोड़ने की बात कही थी. केंद्रीय  जल शक्ति मंत्रालय पूर्व पीएम अटल बिहारी के सपने को साकार करने में जुटा है. केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने टीवी 9 भारतवर्ष से बातचीत में कहा कि नदियों को जोड़ने की पहली योजना लगभग तैयार हो चुकी है.

गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि केन-बेतवा लिंक परियोजना (KBLP) के कार्यान्वयन के लिए विचार-विमर्श करने और समझौता ज्ञापन (MOA) को अंतिम रूप देने के लिए मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के जल संसाधन मंत्री और उत्तर प्रदेश के जल-शक्ति मंत्री तैयार हो गए हैं, जल्द ही इस योजना की शुरुआत होने वाली है.

ये भी पढ़ें- बाढ़ और सूखे से राहत दिलाने को केंद्र का प्‍लान, पूरे देश की नदियां होंगी लिंक

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेजी का ड्रीम प्रोजेक्ट लगभग पूरा

गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh shekhawat) ने कहा कि केबीएलपी (KBLP)  योजना से सबसे अधिक फायदा बुंदलेखंड इलाके को लोगों को मिलेगा. उन्होंने कहा कि, यह योजना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का ड्रीम प्रोजेक्ट है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस योजना पर अपनी खास रुचि दिखाई और जल्द ही इसे पूरा करने को कहा है.

केंद्रीय मंत्री ने दोनों राज्यों को छोटे मुद्दों से ऊपर उठने और केबीएलपी KBLP) परियोजना के जल्द कार्यान्वयन के लिए आम सहमति तक पहुंचने का अनुरोध किया. यह प्रोजेक्ट सूखे की आशंका और पानी की कमी वाले बुंदेलखंड इलाके को बदल देगा और इससे  क्षेत्रीय आर्थिक विकास को गति मिलने की भी संभावना है.

नदियों को जोड़ने का काम शुरु

इस परियोजना के पूरे होने पर 10.62 लाख हेक्टेयर जमीन की हर साल सिंचाई हो सकेगी. इलामें करीब 62 लाख लोगों को पीने का पानी मिलेगा और साथ ही करीब 4,843 मिलियन लीटर पानी का उपयोग करते हुए 103 मेगावाट पनबिजली और 27 मेगावाट सौर ऊर्जा का उत्‍पादन होगा.

ये भी पढ़ें- मोदी के लिए सड़क धोए जाने पर प्रियंका ने कहा, ‘यह चौकीदार हैं या दिल्ली से पधारे कोई शहंशाह?’

गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि बाकी बचे प्रोजेक्ट (Project) को भी जल्द पूरा कर लिया जाएगा. नदियों को जोड़ने के लिए जल शक्ति मंत्रालय की ओर से देश में तीस प्रोजेक्ट चिन्हित किए गए हैं, इनमें से केबीपीएल (KBPL) परियोजना की शुरुआत होने वाली है. बचे हुए 29 प्रोजेक्ट पर भी जल्द से जल्द काम शुरु किया जाएगा, जिससे संबंधित इलाकों में पानी (Water) की कमी को पूरा किया जा सके.

Related Posts