कर्ज में दबे जेट एयरवेज के CFO और CEO ने भी दिया इस्तीफा

कर्ज बढ़ने के बाद से ही कई वरिष्ठ अधिकारियों ने एयरलाइंस को छोड़ चुके हैं. पूर्व मुख्य निर्वाचन अधिकारी नसीम जैदी ने भी एयरलाइंस बोर्ड के स्वतंत्र निदेशक के पद से निजी कारण बताते हुए इस्तीफा दे दिया था.

नई दिल्ली: कर्ज के बोझ में दबे जेट एयरवेज के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर विनय दुबे और चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर अमित अग्रवाल ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है. कंपनी ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

अग्रवाल एयरलाइंस के डिप्टी चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर भी थे. एयरलाइंस द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक दुबे और अग्रवाल ने तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दिया है. उन्होंने इस्तीफा देना का कारण निजी बताया है.

मालूम हो कि जेट एयरवेज ने 17 अप्रैल से संचालन बंद कर दिया है. अब यह लोन पुनर्गठन योजना के तहत स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम के नियंत्रण में है.

कई वरिष्ठ अधिकारी दे चुके हैं इस्तीफा

कर्ज बढ़ने के बाद से ही कई वरिष्ठ अधिकारियों ने एयरलाइंस को छोड़ चुके हैं. पूर्व मुख्य निर्वाचन अधिकारी नसीम जैदी ने भी एयरलाइंस बोर्ड के स्वतंत्र निदेशक के पद से निजी कारण बताते हुए इस्तीफा दे दिया था.

स्वतंत्र निदेश राजश्री पाथी और वरिष्ठ अधिकारी गौरांग शेट्ठी ने भी बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है. मालूम हो कि 25 मार्च को जेट एयरवेज के चेयरमैन नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनीता जिनके नाम कंपनी की 51 प्रतिशत इक्विटी थी, ने भी बोर्ड से इस्तीफा देते हुए इक्विटी कर्जदारों को ट्रांसफर कर दी थी.

8,000 करोड़ रुपये से ज्यादा है बकाया

जेट पर एसबीआई की अगुवाई में बैंकों के कंसोर्टियम का 8,000 करोड़ रुपये से ज्यादा बकाया है. कंपनी के लिए उम्मीद की आखिरी किरण अंतरिम वित्तपोषण और उधारदाताओं द्वारा शुरू की गई हिस्सेदारी की बिक्री प्रक्रिया को पूरा करना है.

ये भी पढ़ें: ‘ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियां सप्‍लाई कर रहीं घटिया गोला बारूद’, सेना ने रक्षा मंत्रालय से जताई चिंता

ये भी पढ़ें: इंटरव्यू के दौरान बोले नितिन गडकरी, सरकार के पास 36 राफेल विमान खरीदने के ही साधन थे