‘चंद्रयान-2 95 प्रतिशत सलामत, एक साल तक चंद्रमा की तस्वीरें भेजता रहेगा ऑर्बिटर’

इसरो के एक अधिकारी ने बताया कि मिशन का सिर्फ पांच प्रतिशत -लैंडर विक्रम और प्रज्ञान रोवर- नुकसान हुआ है.

भारत के मून लैंडर विक्रम के भविष्य और उसकी स्थिति के बारे में भले ही कोई जानकारी नहीं है कि यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया या उसका संपर्क टूट गया, लेकिन 978 करोड़ रुपये लागत वाला चंद्रयान-2 मिशन का सबकुछ खत्म नहीं हुआ है.

‘चंद्रमा का काट रहा चक्कर’
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करने के अनुरोध के साथ आईएएनएस को बताया, “मिशन का सिर्फ पांच प्रतिशत -लैंडर विक्रम और प्रज्ञान रोवर- नुकसान हुआ है, जबकि बाकी 95 प्रतिशत -चंद्रयान-2 ऑर्बिटर- अभी भी चंद्रमा का सफलतापूर्वक चक्कर काट रहा है.”

एक साल मिशन अवधि वाला ऑर्बिटर चंद्रमा की कई तस्वीरें लेकर इसरो को भेज सकता है. अधिकारी ने कहा कि ऑर्बिटर लैंडर की तस्वीरें भी लेकर भेज सकता है, जिससे उसकी स्थिति के बारे में पता चल सकता है.

चंद्रयान-2 के हैं तीन हिस्से
चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान में तीन खंड हैं- ऑर्बिटर (2,379 किलोग्राम, आठ पेलोड), विक्रम (1,471 किलोग्राम, चार पेलोट) और प्रज्ञान (27 किलोग्राम, दो पेलोड).

विक्रम दो सितंबर को आर्बिटर से अलग हो गया था. चंद्रयान-2 को इसके पहले 22 जुलाई को भारत के हेवी रॉकेट जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल-मार्क 3 (जीएसएलवी एमके 3) के जरिए अंतरिक्ष में लांच किया गया था.

ये भी पढ़ें-

Chandrayaan 2: मायूसियों के बीच पीएम ने वैज्ञानिकों का बढ़ाया हौसला, जानिए किसने क्या कहा?

Chandrayaan 2 Updates: उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, देश को आप पर गर्व है ISRO: पीएम मोदी

Chandrayaan 2: आप भी बनिए ऐतिहासिक लम्हे के साक्षी, यहां देख सकते हैं सीधा प्रसारण