स्‍टूडेंट्स के पास पीएम मोदी संग चंद्रयान 2 की लैंडिंग देखने का मौका, ये है तरीका

अगले महीने बेंगलुरु में ISRO के कंट्रोल रूम से चांद पर भारत की फतह को पीएम के साथ बैठकर अनुभव करने का ये मौका कक्षा 8 से 12 के स्‍टूडेंट्स को मिलेगा.

चंद्रयान 2 की चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग 7 सितंबर को होगी. उत्‍तर प्रदेश के स्‍टूडेंट्स के पास मौका है कि वे इस ऐतिहासिक पल के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संग गवाह बनें. अगले महीने बेंगलुरु में ISRO के कंट्रोल रूम से चांद पर भारत की फतह को पीएम के साथ बैठकर अनुभव करने का ये मौका कक्षा 8 से 12 के स्‍टूडेंट्स को मिलेगा.

केंद्र के प्रिंसिपल साइंटिफिक एडवाइजर के. विजय ने यूपी के चीफ सेक्रेट्री अनूप पांडेय को लिखा है कि वे स्‍टूडेंट्स के बीच क्विज कराएं. सेकेंडरी एजुकेशन की प्रिंसिपल सेक्रेट्री, आराधना शुक्‍ला ने राज्‍य भर के स्‍कूलों के व्‍हाट्सएप ग्रुप्‍स पर ये इंफॉर्मेशन भेजने के निर्देश दिए हैं.

शुक्‍ला के मुताबिक, “कक्षा 8-12 के छात्र हिस्‍सा ले सकते हैं. यह जीवन में एक बार आने वाला मौका है. चंद्रयान 2 की सफलता हमारे देश के लिए गर्व का विषय होगी. क्विज में हिस्‍सा लेने के बाद हम स्‍टूडेंट्स को शॉर्टलिस्‍ट करेंगे.”

सभी DIOS को प्रिंसिपल्‍स के साथ मीटिंग कर इस बारे में बताने को कहा है. शिक्षा विभाग के अधिकारियों को क्विज में स्‍टूडेंट्स की ज्‍यादा भागीदारी सुनिश्चित कराने में अन्‍य विभागों की मदद लेने को भी कहा गया है.

भारत ने अपने हेवी लिफ्ट रॉकेट जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल-मार्क 3 (GSLV MK3) की मदद से 22 जुलाई को चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण किया था. स्पेसक्राफ्ट के तीन सेगमेंट हैं-ऑर्बिटर (वजन 2,379 किलोग्राम, आठ पेलोड्स), लैंडर विक्रम (1,471 किलोग्राम, चार पेलोड्स) और एक रोवर प्रज्ञान (27 किलोग्राम, दो पेलोड्स). चंद्रयान-2 को लेकर अगला बड़ा कदम 2 सितंबर को होगा, जब ऑर्बिटर से लैंडर को अलग किया जाएगा. चंद्रयान 2 की लैंडिंग 7 सितंबर को होगी.

ये भी पढ़ें

हालात देखकर खुद फैसला ले सकता है चंद्रयान-2, ISRO साइंटिस्‍ट्स ने यूं बनाया काबिल

चंद्रयान-2 पहुंचा चंद्रमा के और करीब, भेजी क्रेटर्स की तस्वीर