2 अक्टूबर को मनाएंगे किसान-मजदूर विरोधी दिवस, पूरे देश में चलाएंगे हस्ताक्षर अभियान: पीएल पुनिया

पीएल पुनिया (PL Punia) ने कहा, "10 अक्टूबर को प्रदेश मुख्यालय पर राज्य स्तर पर बड़ा आयोजन किया जाएगा. 2 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच में एक बहुत बड़ा हस्ताक्षर कैंपेन चलाया जाएगा. इसमें किसानों से हम लोग संपर्क करेंगे, उनसे बात करेंगे और उनके हस्ताक्षर करवाएंगे."

छत्तीसगढ़ कांग्रेस (Chhattisgarh Congress) के प्रभारी और सांसद पीएल पुनिया (PL Punia) ने कृषि कानूनों (Agricultural Laws) में हुए बदलाव को लेकर केंद्र सरकार (Central Government) पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि किसान और मजदूर से जुड़े कानूनों में काफी बदलाव किया गया है. पुनिया ने कहा, “आज 24 सितंबर को हर प्रदेश मुख्यालय पर प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया जा रहा है. 28 तारीख को कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय से लेकर राजभवन तक मार्च किया जाएगा. छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन है, ऐसे में वहां 29 तारीख को मार्च निकाला जाएगा.”

उन्होंने कहा, “महामहिम राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन लेकर तमाम प्रदेश कांग्रेस कमेटी का डेलिगेशन हर राज्य के गवर्नर को मिलेगा. 2 अक्टूबर किसान-मजदूर विरोधी दिवस के तौर पर मनाया जाएगा. 2 अक्टूबर को हर विधानसभा, जिला मुख्यालय के ऊपर धरना प्रदर्शन आयोजित होगा.”

रविवार को राज्यसभा में हुए हंगामे के पीछे क्या नंबर गेम था?

‘हस्ताक्षर अभियान चलाएंगे’

पीएल पुनिया ने कहा कि 10 अक्टूबर को प्रदेश मुख्यालय पर प्रदेश स्तर पर बड़ा आयोजन किया जाएगा. 2 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच में एक बहुत बड़ा हस्ताक्षर कैंपेन चलाया जाएगा. इसमें किसानों से हम लोग संपर्क करेंगे, उनसे बात करेंगे और उनके हस्ताक्षर करवाएंगे. 2 करोड़ का टारगेट है.

कांग्रेस नेता ने कहा, “किसानों का हस्ताक्षर लेकर 14 नवंबर को महामहिम राष्ट्रपति को हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष और वरिष्ठ नेता यह ज्ञापन (जिसमें किसानों के हस्ताक्षर हैं) सौंपेंगे. इसके अलावा भी कांग्रेस पार्टी और कार्यक्रमों का आयोजन करेगी.”

‘विपक्ष की गैर हाजिरी में विधेयक पास’

उन्होंने कहा कि विरोध इस बात पर भी है कि जिस तरीके से यह विधेयक लोकसभा और राज्यसभा में पास कराए गए. जिस तरीके से विपक्ष को नजरअंदाज करके, उनको बाहर निकालकर, पूरे विपक्ष की गैर हाजिरी में विधेयक पास करवाए.

पुनिया ने कहा, “गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में इनका नाम भी आएगा, कि कैसे 2 दिन में एक हाउस 15 विधयेक पास करता है. एक हाउस दो-साढ़े तीन घंटे में सात बिल पास करता है. किस तरीके से संविधान की हत्या हुई है. खुल्लम खुल्ला, यह हम लोग जाकर पर्दाफाश करेंगे. देश के कोने कोने में जाएंगे.”

वॉक आउट के बाद विपक्षी दलों के साथ लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने की बैठक

Related Posts