CJI रंजन गोगोई के कार्यकाल का आखिरी दिन, कोर्टरूम में बिताए 4 मिनट, जाते-जाते दिया गुरुमंत्र

प्रधान न्यायाधीश गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं लेकिन उस दिन वीकेंड होने के कारण 15 नवंबर को ही उनके कार्यकाल का आखिरी दिन रहा. उन्होंने अपने उत्तराधिकारी न्यायमूर्ति एस. ए. बोबडे के साथ पीठ की अध्यक्षता की.

नई दिल्ली: देश के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) के कार्यकाल का आज आखिरी दिन था. अंतिम कार्यदिवस पर प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के कोर्ट नंबर एक में चार मिनट बिताए.

प्रधान न्यायाधीश गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं लेकिन उस दिन वीकेंड होने के कारण 15 नवंबर को ही उनके कार्यकाल का आखिरी दिन रहा. उन्होंने अपने उत्तराधिकारी न्यायमूर्ति एस. ए. बोबडे के साथ पीठ की अध्यक्षता की.

इस बीच, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (Supreme Court) के अध्यक्ष संजीव खन्ना ने लॉयर्स एसोसिएशन की तरफ से प्रधान न्यायाधीश का आभार जताया. प्रधान न्यायाधीश ने अक्टूबर 2018 में पदभार संभाला था. उनके कार्यालय के अंतिम दिन के एजेंडे में हाईकोर्ट के न्यायाधीशों व देश के विभिन्न भागों में करीब 15000 न्यायिक अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधन शामिल था.

इससे पहले शुक्रवार को प्रधान न्यायाधीश के कार्यालय ने विभिन्न मीडिया हाउसों के निजी साक्षात्कार के आग्रहों पर एक बयान जारी किया, जिसमें उन्होंने साक्षात्कार नहीं दे पाने पर खेद जताया और इसकी वजहें बताईं. उन्होंने कहा कि वह एक ऐसे संस्थान (न्यायपालिका) से संबंध रखते हैं जिसकी ताकत लोगों का इसके प्रति विश्वास है जो प्रेस से नहीं बल्कि अपने अच्छे काम से अर्जित की गई है.