जैश सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने में चीन ने फिर लगाया अड़ंगा

अब अगले छह महीने तक अजहर पर 1267 सैंक्शन कमेटी का प्रस्ताव होल्ड पर रहेगा. इसके अगले तीन महीनों में चीन को या तो तकनीकी होल्ड वापस लेना होगा या फिर से प्रस्ताव के खिलाफ होने के कारण बताने होंगे.
maulana masood azhar, जैश सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने में चीन ने फिर लगाया अड़ंगा

पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने की अंतरराष्ट्रीय पहल पर चीन ने फिर अड़ंगा लगा दिया है. यूएन सेक्युरिटी काउंसिल के प्रस्ताव 1267 को चीन ने तकनीकी स्पष्टीकरण के नाम पर रोक दिया. ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. चीन 2008 के बाद चार बार जैश सरगना की ढाल बना है.

इस बार चीन के लिए ऐसा करना आसान नहीं लग रहा था. पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी जैश ने ली थी. इसके बाद भारत-पाकिस्तान के बीच जंग जैसे हालात बन गए थे. अंतरराष्ट्रीय बिरादरी भारत के साथ खड़ी थी. पी-3 में शामिल अमरीका, फ्रांस और ब्रिटेन तो अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने वाले प्रस्ताव के सह प्रस्तावक थे. जर्मनी भी साथ था, लेकिन ऐन मौके पर चीन की चाल ने सारी कोशिशें विफल कर दी.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर गहरी निराशा जताई है. बयान में कहा गया है कि भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के लिए प्रतिबद्ध है और अजहर जैसे आतंकवादियों पर शिकंजा कसने की कोशिशें जारी रहेगी.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इस प्रस्ताव के पारित होने का समय न्यूयॉर्क के वक्त के मुताबिक 13 मार्च 3 बजे शाम का था. भारतीय समय के मुताबिक बुधवार-गुरुवार की आधी रात 12.30 बजे तक अगर सुरक्षा परिषद के किसी सदस्य ने कोई ‘स्पष्टीकरण’ नहीं मांगा होता तो प्रस्ताव संख्या 1267 के दायरे में मसूद अजहर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित हो गया होता.

चीन पर अंतरराष्ट्रीय दबाव भी काम न आया

इस बार तो मसूद अजहर के खिलाफ प्रस्ताव खुद फ्रांस लाया था. ब्रिटेन, अमरीका और जर्मनी सह प्रस्तावक थे. 1267 सैंक्शन कमेटी का मुखिया इंडोनेशिया भी भारत के साथ था.  माना जा रहा था कि अगर चीन इस बार भी स्पष्टीकरण के नाम पर अड़ंगा लगाता है तो अंतरराष्ट्रीय बिरादरी के सामने उसकी कलई खुल सकती है.

भारत ने सीधे तौर पर भी चीन से संपर्क साधा था. पुलवामा के बाद हुए एयर स्ट्राइक पर चीन को भरोसे में लेने की कोशिश की गई. इसके बावजूद चीन ने भारत का साथ नहीं दिया.

सेक्युरिटी काउंसिल के पांच स्थायी और 10 अस्थायी देशों में से 13 भारत के साथ खड़े थे. यूएन में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन के ट्वीट से भारत को मिले समर्थन का अंदाजा लगता है. उन्होंने लिखा .. सिर्फ एक बड़े देश ने फिर रोक दिया. हम उन सभी छोटे और बड़े देशों के शुक्रगुजार हैं जिन्होंने प्रस्ताव का समर्थन किया.

आगे क्या होगा?

अब अगले छह महीने तक अजहर पर 1267 सैंक्शन कमेटी का प्रस्ताव होल्ड पर रहेगा. इसके अगले तीन महीनों में चीन को या तो तकनीकी होल्ड वापस लेना होगा या फिर से प्रस्ताव के खिलाफ होने के कारण बताने होंगे.

इस बीच आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत के साथ खड़े देश एक बार फिर चीन पर कूटनीतिक दबाव बनाने की कोशिश करेंगे.

Related Posts