आतंकी मसूद अजहर के खत्म होंगे अच्छे दिन, चीन ने दिए संकेत

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने सोमवार को मीडिया ब्रीफिंग में कहा, 'अजहर से संबंधित आवेदन को प्रस्तावित किए जाने (1267 समिति में) के बाद चीन विभिन्न पक्षों के साथ संपर्क एवं समन्वय बिठा रहा है.

नई दिल्ली: पाकिस्तान से संचालित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर अब ज्यादा दिन तक नहीं बच सकता. भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने का प्रयास कर रहा है लेकिन हर बार चीन उसको बचा लेता है. अब चीन ने भी सकारात्मक संकेत दिए हैं.

सोमवार को चीन ने दावा किया कि मसूद को UN द्वारा वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने के मुद्दे में सकारात्मक प्रगति हुई है. हालांकि इस दौरान पेइचिंग ने अमेरिका पर भी निशाना साधा. चीन ने कहा कि अमेरिका सीधे सुरक्षा परिषद के समक्ष मामले को उठाकर उसके प्रयासों को बर्बाद कर रहा है. चीन ने कहा कि ऐसा करके अमेरिका एक खराब उदाहरण पेश कर रहा है.

सुरक्षा परिषद की 1267 अल कायदा प्रतिबंध समिति के तहत आतंकी मसूद अजहर को सूचीबद्ध करने के फ्रांस के प्रस्ताव पर चीन के अड़ंगा लगाने के 2 हफ्ते बाद अमेरिका ने 27 मार्च को एक बड़ा कदम उठाया. US ने अजहर को ब्लैकलिस्ट करने, उस पर यात्रा प्रतिबंध लगाने, उसकी संपत्ति की खरीद-बिक्री पर रोक और हथियार रखने पर रोक लगाने के लिए 15 देशों के शक्तिशाली परिषद में ड्राफ्ट पेश किया था.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने सोमवार को मीडिया ब्रीफिंग में कहा, ‘अजहर से संबंधित आवेदन को प्रस्तावित किए जाने (1267 समिति में) के बाद चीन विभिन्न पक्षों के साथ संपर्क एवं समन्वय बिठा रहा है और उसने सकारात्मक प्रगति की है. अमेरिका यह बहुत अच्छे से जानता है.’  गौरतलब है कि चीन ने पिछले हफ्ते जैश सरगना को वैश्विक आतंकी के तौर पर सूचीबद्ध करने में बाधा डालने के अपने बार-बार के प्रयासों का बचाव किया था और अमेरिका के उस आरोप से इनकार किया कि उसकी कार्रवाई हिंसक इस्लामिक समूहों को प्रतिबंधों से बचाने जैसी है.