Coronavirus से लड़ रहा ‘छोटा हाथी’, दिल्ली की छोटी गलियों में कर रहा Sanitization

सैनिटाइजेशन (Sanitization) के लिए बड़े ट्रक, छोटा हाथी (छोटा टैंपो ) और पावर प्रेशर का प्रयोग किया जा रहा है. बड़े ट्रक में लगभग 6,000 लीटर पानी आता है, जबकि छोटा हाथी में 3,000 लीटर पानी आता है और पावर प्रेशर में 10 लीटर पानी आता है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 4:51 pm, Mon, 13 April 20

कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) से बचने का सबसे बढ़िया तरीका है- साफ–सफाई और सोशल डिस्टेंस (Social Distance). दिल्ली नगर निगम की ओर से साफ–सफाई के लिए कई तरह के कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं. दिल्ली (Delhi) की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए साफ–सफाई में सबसे कारगर तरीका साबित हो रहा है ‘छोटा हाथी’ (मिनी टैंपो).

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के निदेशक प्रेस और सूचना अधिकारी योगेन्द्र सिंह (Yogendra Singh Maan) मान ने टीवी 9 भारतवर्ष  (tv9 bharatvarsh) से बातचीत में बताया कि हम इलाकों को कई भागों में बांटकर सैनिटाइजेशन (Sanitization) ड्राइव चला रहे हैं, जिसमें कई तरह की मशीनों का प्रयोग किया जा रहा है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

तंग गलियों मे छोटा हाथी

उत्तरी दिल्ली नगर निगम में एपिडेमॉलजिस्ट डॉ बबिता बिष्ट (Babita Bisht) ने बताया कि हमने इलाकों को ध्यान में रखते हुए सैनिटाइज मशीनों को प्रयोग किया. नबी करीम की तंग गलियों में छोटा हाथी (Chota hathi) बहुत ही कारगर है. एक छोटे टेम्पो पर दो टेम्पो (वारट) टैंक लगाया जाते हैं. फिर उसे छोटे जेन सेट से जोड़कर तैयार किया जाता है. इसके साथ ही पानी की लगभग सौ मीटर लम्बी पाइप भी होती है जिससे कि गलियों तक पहुंचा जा सके.

कैसे होता है छिड़काव

उत्तरी दिल्ली नगर निगम में असिस्टेंट मलेरिया इंस्पेक्टर टिंकू स्वराज (Tinku Swaraj) ने टीवी 9 भारतवर्ष से बातचीत में बताया कि जितना पानी होता है, उसका एक प्रतिशत उसमें दवा मिलाई जाती है. सबसे पहले दिल्ली जल बोर्ड के वारट पम्प से टैंक में पानी भरा जाता है. उसके बाद पानी में अनुपात के अनुसार सोडियम हाइड्रोक्लोराइड  (Sodium hydrochloride) मिलाया जाता है.

तीन तरह से सैनिटाइजेशन

योगेन्द्र सिंह मान ने बताया कि सैनिटाइजेशन के लिए तीन तरह के मशीनों- बड़े ट्रक, छोटा हाथी और पिठ्ठू का प्रयोग किया जा रहा है. बड़े ट्रक में लगभग 6,000 लीटर पानी आता है, जबकि छोटा हाथी में 3,000 लीटर पानी आता है और पावर प्रेशर (इसे पीठ पर रखकर स्‍वास्‍थ्‍य कर्मी छिड़काव करते हैं) मशीन, जिसमें एक बार में 10 लीटर पानी आता है, का इस्तेमाल किया जा रहा है. चौड़ी सड़कों के आस-पास के इलाकों को बड़े ट्रक से सैनिटाइज किया जाता है, जबकि छोटा हाथी छोटी गलियों में और पावर प्रेशर पम्प से तंग गलियों को सैनिटाइज किया जा रहा है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे