नागरिकता कानून पर बवाल के बाद असम के हालात में सुधार, कर्फ्यू हटा, इंटरनेट भी शुरू

कई जिलों में लगा कर्फ्यू मंगलवार से हटाने का फैसला हुआ है. मंत्री हिमंता बिस्‍व सरमा ने कहा कि ब्रॉडबैंड-इंटरनेट सेवाएं भी मंगलवार से बहाल कर दी जाएंगी.

असम सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर तनाव कम होने का दावा किया है. कई जिलों में लगा कर्फ्यू मंगलवार से हटाने का फैसला हुआ है. मंत्री हिमंता बिस्‍व सरमा ने कहा कि ब्रॉडबैंड-इंटरनेट सेवाएं भी मंगलवार से बहाल कर दी जाएंगी. ये फैसला मुख्‍यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल की अध्‍यक्षता में हुई मीटिंग में हुआ.

नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) के संसद के दोनों सदनों में पारित होने के बाद कानून बनने पर शहर के साथ-साथ असम के अन्य हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन हुए. इनमें 5 लोगों की मौत हो गई. अब तक 85 को अरेस्‍ट किया गया है. डीजीपी भास्‍कर ज्‍योति महंत के मुताबिक, हालात काबू में हैं.

DGP ने बताया, ‘पत्थरबाजी की घटनाओं, वाहनों को आग लगाने, शासकीय और आम लोगों की संपत्तियों पर हमलों की वीडियोग्राफी की गई है. हम इनमें शामिल लोगों की पहचान कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे.’

CAA पर हो रहा विरोध

यह अधिनियम 31 दिसंबर 2014 से पहले पाकिस्तान, अफगानिस्तान व बांग्लादेश में सताए गए हिंदुओं, सिखों, पारसी, जैन व बौद्ध लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान करेगा. अधिनियम के अनुसार, इन समुदायों को अवैध अप्रवासी नहीं माना जाएगा और इन्हें भारतीय नागरिकता दी जाएगी.

ये भी पढ़ें

जानें, असम की अहोम आर्मी और मुगलों की लड़ाई का नागरिकता कानून से क्या है कनेक्शन?

असम और पश्चिम बंगाल की ये 100 ट्रेनें हुईं रद्द