लोकसभा में सियासी संग्राम तय, गृहमंत्री अमित शाह पेश करेंगे Citizen Amendment Bill 2019

गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) सोमवार को लोकसभा में नागरिक संशोधन विधेयक (Citizen Amendment Bill 2019) लोकसभा में पेश करेंगे.

नई दिल्ली: गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) सोमवार को लोकसभा में नागरिक संशोधन विधेयक (Citizen Amendment Bill 2019) लोकसभा में पेश करेंगे. जिस पर बाद में वोटिंग करायी जाएगी जो इस बिल का भविष्य तय करेगी. इसके लिए बीजेपी ने पार्टी के सभी सांसदों के लिए व्हिप जारी कर संसद में मौजूद रहने का आदेश दिया है. सोमवार के दिन संसद में सियासी संग्राम देखने को मिल सकता है.

लोकसभा की सोमवार की कार्यसूची में गृहमंत्री अमित शाह के विधेयक पेश करने की तैयारी का खुलासा कर सरकार ने अपने इरादे भी साफ कर दिए हैं. सरकार और विपक्ष के बीच नागरिकता विधेयक पर आर-पार की इस जंग को देखते हुए लोकसभा में सोमवार को पक्ष-विपक्ष में टकराव संभव दिख रहा है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और केरल से सांसद शशि थरुर(Shashi Tharoor) ने नागिरक संशोधन विधेयक (Citizen Amendment Bill 2019) पारित होने से पहले बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि इस विधेयक के पारित होने पर महात्मा गांधी के विचारों पर मोहम्मद अली जिन्ना के विचारों की जीत होगी. उन्‍होंने कहा कि धर्म के आधार पर नागरिकता देने से भारत ‘पाकिस्‍तान का हिंदुत्‍व संस्‍करण’ बन जाएगा.

शशि थरूर ने कहा कि धर्म के आधार पर नागरिकता देने से भारत का स्तर गिरकर ‘पाकिस्तान का हिन्दुत्व संस्करण’ हो जाएगा. उन्‍होंने कहा, ‘यदि नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) पारित होता है तो मुझे विश्वास है कि उच्चतम न्यायालय संविधान के मूल सिद्धांतों के ‘खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन’ को अनुमति नहीं देगा.’

भाजपा नेता राम माधव ने तीन देशों के उत्पीडि़त गैर-मुस्लिम धर्मावलंबियों को नागरिकता देने संबंधी सरकार के प्रस्ताव को पूरी तरह जायज ठहराया है. उन्होंने कहा कि उत्पीड़न के शिकार अल्पसंख्यकों के लिए भारत ने अपना दरवाजा हमेशा खोले रखा है. इन तीन देशों के गैर-मुस्लिम छह समुदायों के हिंसा और उत्पीड़न के शिकार लोगों को नागरिकता देने का सरकार का कदम सही है.