नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 : लोकसभा से पास, जानें राज्‍यसभा में क्‍या है सरकार का गणित?

लोकसभा में सरकार के पास बहुमत था, ऐसे में उसे बिल पास कराने में समस्‍या नहीं आई. हालांकि राज्‍यसभा में सरकार के फ्लोर मैनेजर्स को थोड़ी मशक्‍कत करनी पड़ सकती है.
Citizenship Amendment Bill 2019 Rajya Sabha, नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 : लोकसभा से पास, जानें राज्‍यसभा में क्‍या है सरकार का गणित?

नागरिकता (संशोधन) विधेयक 2019 को राज्‍यसभा में बुधवार को पेश किया जाएगा. लोकसभा ने इस बिल को सोमवार को बहुमत से पारित कर दिया. सदन में सरकार के पास बहुमत था, ऐसे में उसे बिल पास कराने में समस्‍या नहीं आई. हालांकि राज्‍यसभा में सरकार के फ्लोर मैनेजर्स को थोड़ी मशक्‍कत करनी पड़ सकती है.

क्‍या है गणित?

राज्‍यसभा की वर्तमान सदस्‍यता 240 है यानी बहुमत के लिए 121 सदस्‍यों का समर्थन चाहिए. बीजेपी के पास 84 सांसद हैं. NDA में इसके अलावा AIADMK के 11, जनता दल यूनाइटेड (JDU) के 6, अकाली दल के 3 सदस्‍य भी होंगे. नामित सदस्‍य भी सरकार के पक्ष में मतदान करेंगे. लोकसभा के ट्रेंड को देखते हुए YSR कांग्रेस (2 सांसद) और बीजू जनता दल (7 सांसद) भी बिल का समर्थन कर सकते हैं. सब समीकरण ठीक बैठे तो बिल पास कराने में सरकार को परेशानी नहीं होनी चाहिए.

नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 के जरिए उन हिंदुओं, ईसाइयों, सिखों, पारसियों, जैनों, और बौद्धों को भारतीय राष्ट्रीयता प्रदान की जाएगी, जो पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में उत्पीड़न से भाग कर यहां आए हैं. हालांकि कांग्रेस के साथ विपक्ष ने इस पर आपत्ति जताई है.

ये भी पढ़ें

जानें, असम की अहोम आर्मी और मुगलों की लड़ाई का नागरिकता कानून से क्या है कनेक्शन?

लोकसभा से नागरिकता संशोधन बिल 2019 पास होने पर अमेरिका ने जताई चिंता

Related Posts