दिल्ली में नहीं होगा पानी का निजीकरण, सीएम केजरीवाल बोले- करेंगे विश्व स्तर के इंतजाम

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि दिल्ली में पानी (water) की उपलब्धता भी बढ़ानी है. इसलिए हम उत्तर प्रदेश, हिमाचल और उत्तराखंड सरकार से बात कर रहे हैं.

कोरोना (Corona) काल के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने दिल्लीवालों को 24 घंटे पानी देने का ऐलान किया है. मुख्यमंत्री ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि मैं सुनिश्चित करता हूं कि पानी निजीकरण नहीं होगा. विपक्ष जो कह रहा वैसा नहीं  है, मैं खुद निजीकरण के पक्ष में नहीं हूं. देश की राजधानी दिल्ली में पानी की सप्लाई (Water Supply) आधुनिक देश की तरह होगी.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में 930 मिलियन गैलन पानी का उत्पादन होता है. राज्य में हर व्यक्ति के लिए 176 लीटर पानी उपलब्ध है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में पानी की उपलब्धता भी बढ़ानी है. इसलिए हम उत्तर प्रदेश, हिमाचल और उत्तराखंड सरकार से बात कर रहे हैं. 930 MGD में से काफी पानी चोरी हो जाता है. इसके लिए हम कंसल्टेंट हायर कर रहे हैं जो हमें बताएगा कि पानी के एक एक बूंद का कैसे इस्तेमाल हो और पानी बर्बाद न हो.

ये भी पढ़ें- दिल्ली: अब घर बैठे मिलेगा पानी-सीवर कनेक्शन, नई योजना मंजूर

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हम बाबा आदम के जमाने में जी रहे हैं. 24 घंटे दिल्ली में पानी (Water) दिए जाने की राह पर चल पड़ा है. आईएएनएस के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने दिल्ली में पानी के प्रबंधन और उसके वितरण की जिम्मेदारी पर भी चिंता जताई. मुख्यमंत्री ने स्वीकार किया कि पानी के प्रबंधन में कई प्रकार की खामियां हैं. उन्होंने कहा, “930 मिलियन गैलन पानी पानी कम नहीं होता. इसमें से पानी चोरी हो जाता है, पानी लीक हो जाता है. हमें पानी का प्रबंधन ठीक करना है.’

Related Posts