कृषि विधेयकों पर विरोध के बीच CM मनोहर लाल खट्टर ने की अमित शाह से मुलाकात

संसद से पास हुए कृषि बिलों (Agriculture Bills) को लेकर राज्य के किसानों के फीडबैक के बारे में भी गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने जानकारी ली. दोनों नेताओं के बीच करीब 40 मिनट तक बैठक चली.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 11:56 pm, Sun, 27 September 20
अमित शाह मनोहर लाल खट्टर (FILE)

हरियाणा (Haryana) के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने रविवार को गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) से उनके आवास पर मुलाकात की. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच कई मुद्दों पर चर्चा हुई. संसद से पास हुए तीनों कृषि बिलों को लेकर राज्य के किसानों के फीडबैक के बारे में भी गृहमंत्री अमित शाह ने जानकारी ली. दोनों नेताओं के बीच करीब 40 मिनट तक बैठक चली.

IANS के मुताबिक, गृहमंत्री शाह ने किसान बिलों को लेकर विपक्ष की ओर से फैलाए जा रहे भ्रम को दूर करने के लिए हरियाणा में किसानों के बीच जनजागरण अभियान चलाने पर जोर दिया. हरियाणा सरकार में सहयोगी दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) की पार्टी जेजेपी के रुख के बारे में भी दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई. ऐसा पार्टी सूत्रों का कहना है.

हरियाणा में कैबिनेट विस्तार भी लंबित चल रहा है. वहीं प्रदेश संगठन में भी अहम नियुक्तियां होनी हैं. इन दोनों मुद्दों पर भी गृहमंत्री शाह से मुख्यमंत्री खट्टर की चर्चा होने की बात सूत्र बता रहे हैं.

कृ​​षि विधेयक बने कानून, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी

इससे पूर्व, शनिवार को इन दोनों मसलों पर राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मुख्यमंत्री खट्टर ने बात की थी. वहीं रविवार की सुबह राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष से भी खट्टर ने भेंटवार्ता की. फिर गृहमंत्री अमित शाह के आवास जाकर खट्टर ने उनसे भी फीडबैक लेकर सभी मुद्दों पर चर्चा की.

वहीं रविवार को  कृषि विधेयकों पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपनी मुहर लगा कर मंजूरी दे दी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हस्ताक्षर होने के बाद कृषि विधेयक अब एक्ट या कानून बन चुके हैं. वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार के ​कृषि विधेयकों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा समेत देश के कई राज्यों में किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है. राजनीतिक दल भी सरकार के इस कदम का शुरूआत से ही विरोध कर रहे हैं.

कृषि विधेयकों को राष्ट्रपति की मंजूरी पर बोले सुखबीर बादल- भारत के लिए काला दिन