बुजुर्ग बहनों ने 10 साल में जमा किए 46 हजार रुपए, जरूरत पड़ने पर निकले बैन हुए पुराने नोट

बीमारी और आखिरी समय में काम आने के लिए इकट्ठा किए थे रुपए.

  • TV9.com
  • Publish Date - 4:52 pm, Thu, 28 November 19

कोयंबटूर के तिरुपुर में 70 पार उम्र की दो बहनों ने छोटे-मोटे काम करके 10 साल तक 46 हजार रुपए जोड़े, ताकि उनकी बीमारी के वक्त काम आ सकें. अब उन रुपयों की जरूरत पड़ी तो पता चला कि वे सारे रुपए तीन साल पहले बैन हो चुकी 500 और 1000 रुपए की करेंसी में हैं.

78 साल की थंगाम्मल और 75 साल की थंगाम्मल, दोनों बहनें तमिलनाडु के तिरुपुर जिले के पूमालुर की रहने वाली हैं. बढ़ती उम्र की बीमारियों ने उन्हें घेरा तो उन्होंने रिश्तेदारों को बताया कि कुछ पैसे बीमारी और अंतिम क्रिया आदि में काम आने के लिए इकट्ठे किए थे.

परिवार वालों ने जब पैसे निकाले तो देखा कि वे वही पुराने पांच सौ और हजार के नोट हैं जो तीन साल पहले 8 नवंबर को प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद बैन कर दिए गए थे. बड़ी बहन थंगाम्मल ने 22 हजार जबकि छोटी रंगाम्मल ने 24 हजार रुपए इकट्ठे किए थे. छोटे-मोटे काम करके पेट पालने वाली दोनों बहनों को पता नहीं चला वे नोट बैन हो गए हैं.

ये भी पढ़ें:

मुकेश अंबानी बने पांच लाख करोड़ रुपए की संपत्ति वाले पहले भारतीय
विदेश दौरे पर होटलों के बजाय एयरपोर्ट लाउंज में ठहरते हैं पीएम मोदी