असम में सोनोवाल को कांग्रेस का ऑफर- CAA के खिलाफ BJP छोड़ें, बने रहेंगे सीएम

सैकिया ने कहा कि असम की मौजूदा हालत को देखते हुए सोनोवाल को बीजेपी छोड़ देनी चाहिए और अपने 30 विधायकों के साथ बतौर निर्दलीय सरकार से बाहर आना चाहिए. हम असम में बीजेपी विरोधी सरकार बनाने के लिए उनका समर्थन करेंगे.

  • TV9.com
  • Publish Date - 8:40 am, Mon, 13 January 20

असम विधानसभा में विपक्ष के नेता देबब्रत सैकिया ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को बीजेपी छोड़ने की अपील की. उन्होंने सोनोवाल को मुख्यमंत्री बने रहने का ऑफर भी दिया है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सैकिया ने कहा कि सोनोवाल अपने 30 विधायकों के साथ बीजेपी छोड़ दें तो उनकी पार्टी कांग्रेस के समर्थन से नई सरकार बना लेंगे.

सैकिया ने कहा कि नई सरकार नागरिकता संशोधन कानून और बीजेपी विरोधी होगी. गृह मंत्रालय की ओर से नागरिकता संशोधन कानून लागू किए जाने की अधिसूचना जारी होने के बाद सैकिया ने कहा कि अगर सोनोवाल अपने विधायकों के साथ बीजेपी छोड़ते हैं तो उनकी पार्टी सरकार बनाने में उनकी मदद करेगी और नई सरकार में वही मुख्यमंत्री होंगे.

सैकिया ने कहा कि असम की मौजूदा हालत को देखते हुए सोनोवाल को बीजेपी छोड़ देनी चाहिए और अपने 30 विधायकों के साथ बतौर निर्दलीय सरकार से बाहर आना चाहिए. हम असम में बीजेपी विरोधी सरकार बनाने के लिए उनका समर्थन करेंगे. उन्हें फिर से मुख्यमंत्री बनाया जाएगा.

क्या वैकल्पिक सरकार में भी सोनोवाल मुख्यमंत्री बने रहेंगे के सवाल पर कांग्रेस नेता ने कहा इसमें कोई संदेह नहीं है. उन्होंने कहा कि सोनोवाल नागरिकता कानून का समर्थन करने के कारण असम की जनता की नाराजगी का सामना कर रहे हैं. असम से प्यार करने वाले विधायकों और मंत्रियों को बीजेपी छोड़ना चाहिए और उन सबको असम के लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए.

सोनोवाल सरकार पर सैकिया ने असम अकॉर्ड को लेकर अपने चुनावी वादे को पूरा नहीं किए जाने का आरोप भी लगाया. दूसरी ओर असम गण परिषद (एजीपी) ने भी कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक रद्द किए जाने पर वह बीजेपी के साथ गठबंधन बहाल कर सकती है.

बीते साल 11 दिसंबर को जब राज्यसभा में नागरिकता (संशोधन) विधेयक पारित किया गया था तब से ही असम में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया था. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने असम के राजनीतिक दलों और सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों से बात किए जाने को लेकर कई बार कहा है कि विरोध थम रहा है.

ये भी पढ़ें –

बीजेपी नेता भगवान गोयल की इस किताब पर बवाल, संभाजी छत्रपति ने की रोक की मांग, संजय राउत भी भड़के

प्रशांत किशोर ने नागरिकता कानून पर कांग्रेस को सराहा, भड़की बीजेपी