पार्टी को फुल टाइम अध्‍यक्ष चुनने की जरूरत: शशि थरूर

शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा कि वह सोचते हैं कि राहुल गांधी में पार्टी को संभालने की सभी योग्यताएं हैं. अगर वो पार्टी अध्यक्ष नहीं बनना चाहते हैं तो पार्टी को नए अध्यक्ष के लिए लोकतांत्रिक ढंग से अध्यक्ष चुनने की कार्रवाई शुरू करनी चाहिए.
congress find new Chief, पार्टी को फुल टाइम अध्‍यक्ष चुनने की जरूरत: शशि थरूर

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा कि पार्टी को अपनी छवि बचाने के लिए फुल टाइम अध्यक्ष चुनने की जरूरत है. उन्होंने आगे कहा कि सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) पर लंबे समय तक पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष पद का बोझ डालना सही नहीं है.

थरूर ने रविवार को कहा, “कांग्रेस पार्टी को फुल टाइम अध्यक्ष खोजने की प्रकिया शुरू कर देनी चाहिए. जनता के सामने पार्टी की छवि बिना पतवार के नाव जैसी होती जा रही है, जिसकी कोई दिशा नहीं है.”

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

थरूर की यह टिप्पणी सोनिया गांधी के अतंरिम अध्यक्ष पदभार संभालते हुए एक साल पूरा करने के ठीक पहले आयी है. थरूर ने PTI से कहा, “मैं मानता हूं कि हमें अपने नेतृत्व को लेकर स्पष्ट होना चाहिए. मैंने पिछले साल सोनिया जी के अतंरिम अध्यक्ष बनने पर स्वागत किया था लेकिन मैं यह भी मानता हूं कि अनिश्चितकाल तक उनसे यह पद संभालने की अपेक्षा करना ठीक नहीं है.”

थरूर ने आगे कहा कि वह सोचते हैं कि राहुल गांधी में पार्टी को संभालने की सभी योग्यताएं हैं. अगर वह पार्टी अध्यक्ष नहीं बनना चाहते हैं तो पार्टी को नए अध्यक्ष के लिए लोकतांत्रिक ढंग से अध्यक्ष चुनने की कार्रवाई शुरू कर देनी चाहिए.

पार्टी में राहुल को अध्यक्ष बनाने की मांग

बताते चलें कि कांग्रेस पार्टी का बड़ा हिस्सा राहुल गांधी को वापस अध्यक्ष बनाने के पक्ष में है. राहुल गांधी ने मई 2019 में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. पिछले तीन बैठकों से लगातार इसकी मांग उठी रही है. 23 जून को CWC (कांग्रेस कार्यसमिति) की मीटिंग में, 11 जुलाई को सोनिया गांधी के पार्टी के लोकसभा सदस्यों के साथ विचार-विमर्श में और 30 जुलाई को पार्टी के राज्यसभा सांसदों के साथ बातचीत के दौरान मांग की गई है.

थरूर ने की राहुल गांधी की तारीफ 

थरूर ने कहा कि राहुल गांधी ने तत्कालीन सरकार के कार्यों और उसकी असफलताओं के लिए जिम्मेदार ठहराने की दिशा में बेहतरीन काम किया है. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन (Lockdown) में अपनी गतिविधियों से, चाहे वह Covid-19 पर हो या चीनी घुसपैठ का मामला हो, राहुल गांधी ने निसंदेह अकेले ही तत्कालीन सरकार को अपने कार्यों और असफलताओं के लिए कठघरे में खड़ा किया है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts