मज़हब के दीवानों जरा बानू खान को पहचानों, विधायक बनने के बाद भी बना रहे हैं मां दुर्गा की प्रतिमा

कांग्रेस विधायक सैफुल आलम खान (बानू खान) वर्षों से मां दुर्गा की प्रतिमा बनाते आ रहे हैं लेकिन जब वो विधायक चुने गए तो लोगों ने सोचा कि अब वो ये काम बंद कर देंगे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.
बानू खान, मज़हब के दीवानों जरा बानू खान को पहचानों, विधायक बनने के बाद भी बना रहे हैं मां दुर्गा की प्रतिमा

अक्सर देखा जाता है कि अगर किसी को राजनीतिक पद मिल जाता है तो फिर उनकी जीवन शैली बदल जाती है. लेकिन कांग्रेस के इस विधायक ने इस बात को गलत साबित कर दिया है. पश्चिम बंगाल की कांडी विधानसभा के बहरामपुर से कांग्रेस एमएलए सैफुल आलम खान उर्फ बानू खान हर साल की तरह इस साल भी दुर्गा पूजा के लिए मां दुर्गा की प्रतिमाएं बना रहे हैं.

कांग्रेस विधायक सैफुल आलम खान (बानू खान) वर्षों से मां दुर्गा की प्रतिमा बनाते आ रहे हैं लेकिन जब वो विधायक चुने गए तो लोगों ने सोचा कि अब वो ये काम बंद कर देंगे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और वो मां दुर्गा की प्रतिमा अभी भी बना रहें हैं. ऐसे लोग उन तबके के लिए भी मिसाल है जो हर एक बात पर मजहब को बीच में ले आते हैं.

वह ऐसा कई बरसों से करते आ रहे हैं. इतना ही नहीं वह कई दुर्गा पंडालों के लिए मां दुर्गा के नेत्र भी पेंट करते हैं. इस बार एमएलए चुने जाने के बाद लोगों को लगा था कि वह इस बार दुर्गा प्रतिमाएं नहीं बनाएंगे. लेकिन उन्‍होंने सभी को गलत साबित कर दिया. वह विधानसभा सत्र के बाद हर दिन अपने सहयोगियों के साथ इस काम में जुट जाते हैं.

वह ऐसा क्‍यों करते हैं, यह पूछे जाने पर सैफुल आलम ने कहा, ‘एक कलाकार की कोई और पहचान नहीं होती. वह केवल एक कलाप्रेमी होता है. बचपन से ही मैंने मूर्तियां बनते देखी हैं, मैं भी इसी काम में लग गया. मैं केवल दुर्गा ही नहीं, सरस्‍वती, काली और दूसरी मूर्तियां भी बनाता हूं. मेरा मकसद आम आदमी के लिए और उनके साथ काम करना है. इसीलिए तो उन्‍होंने मुझे अपना एमएलए चुना है.’ सैफुल फुटबॉल प्‍लेयर, सिंगर और पेंटर के तौर पर मशहूर हैं.

Related Posts