कृषि विधेयक: कांग्रेस सांसद जसबीर सिंह बोले- ‘किसान बोने के साथ काटना भी जानता है’

कांग्रेस के सांसद जसबीर सिंह गिल (Jasbir Singh Gill) ने कहा कि लोकसभा में जो हमारी आवाज दबाई जा रही है. हमें बोलने का मौका नहीं दिया जा रहा है. कोई सरकार जो बहरी है उसे जगाने-सुनाने के लिए हमें वॉक आउट करना पड़ा.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 7:43 pm, Tue, 22 September 20

विपक्ष के जोरदार हंगामे के बीच तीसरा किसान बिल (Farm Bill) राज्यसभा से पारित हो गया है. राज्यसभा ने अनाज, तिलहन, खाद्य तेल, प्याज औक आलू को आवश्यक वस्तुओं की सूची से हटाने के प्रावधान वाले विधेयक को मंजूरी दे दी है. वहीं, दूसरी ओर आठ राज्यसभा सांसदों के निलंबन के बाद लोकसभा (Lok Sabha) की कार्रवाई का विपक्ष ने बहिष्कार किया. जिसके बाद कांग्रेस ने सरकार पर जमकर हमला बोला.

किसान उगाने के साथ काटना भी जानता है

कांग्रेस के सांसद जसबीर सिंह गिल (Jasbir Singh Gill) ने कहा कि लोकसभा में जो हमारी आवाज दबाई जा रही है. माइक बंद किया जा रहा है. हमें बोलने का मौका नहीं दिया जा रहा है. कोई सरकार जो बहरी है उसे जगाने-सुनाने के लिए हमें वॉक आउट करना पड़ा.

उन्होंने कहा कि ”मेरी उन लोगों से विनती है जो धरती से प्यार करते हैं. जो किसानों, मजदूरों और आढ़तियों के प्रति संवेदना रखते हैं, वो उन सभी दल और उनके सांसदों का घेराव करें जिन्होंने इस बिल का समर्थन किया. उनका बायकॉट करो, उनका घेराव करो. यही उनकी सजा है. सरकार याद रखे कि किसान अगर बोना जानता है तो काटना भी जानता है. कांग्रेस पार्टी हर गांव में जाएगी और इन विधेयकों के खिलाफ लोगों के हस्ताक्षर लेगी और सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे खटखटाएगी.”

बिल का समर्थन करने वाले सांसदों का हो बहिष्कार

अमृतसर से कांग्रेस के सांसद गुरजीत सिंह औजला ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि ”लोकसभा और राज्यसभा इंसाफ नहीं दे रहे हैं. राष्ट्रपति विपक्ष को टाइम नहीं दे रहे हैं. किसानों की गुहार को हम सुप्रीम कोर्ट तक ले जाएंगे. जिन्हें किसानों का दर्द महसूस होता है, जिन्हें इनका दर्द समझ में आता है वो बिल का समर्थन करने वाले सांसदों और दलों का बहिष्कार करें. लोग इन्हें (सांसदों) चुनकर भेजते हैं कि वो जनता के हित की रक्षा करेंगे. अगर सांसद ऐसा नहीं कर पाते तो जनता को इनका बहिष्कार करना चाहिए.”