महाराष्ट्र के बहाने निरूपम कांग्रेस को क्यों दिला रहे हैं यूपी की याद? जानें बीएसपी गठबंधन का अंजाम

कांग्रेस ने 2012 में एक बार फिर राष्ट्रीय लोकदल से गठबंधन किया लेकिन कांग्रेस का न तो वोट प्रतिशत बढ़ा और न ही सीटें.

महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाना, कांग्रेस के अस्तित्व के लिए ख़तरा है. कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने ट्वीट कर कहा कि महाराष्ट्र में कांग्रेस ग़लती कर रही है.

उन्होंने साल 1996 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की याद दिलाते हुए कहा कि तब की ग़लती पार्टी अब तक भुगत रही है. अगर महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनी तो यहां पर भी पार्टी का अस्तित्व ख़्तम हो जाएगा.

उन्होंने अपने ट्विटर पेज पर लिखा, ‘वर्षों पहले उत्तर प्रदेश में बसपा के साथ गठबंधन कर कांग्रेस ने गलती की थी, तब ऐसी पिटी की आजतक नहीं उठ पाई. महाराष्ट्र में भी कांग्रेस वही गलती कर रही है, शिवसेना की सरकार में तीसरे नंबर की पार्टी बनना कांग्रेस को दफन करने जैसा है. बेहतर होगा कि कांग्रेस अध्यक्ष दबाव में ना आएं.’

बता दें कि जब से शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की कवायद शुरू हुई है संजय निरूपम लगातार इस गठबंधन का विरोध कर रहे हैं.

क्या हुआ था 1996 के यूपी विधानसभा चुनाव में

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस ने 1996 में विधानसभा चुनाव के पूर्व बसपा के साथ गठबंधन किया था. वहीं आरएलडी (राष्ट्रीय लोकदल) का कांग्रेस पार्टी में ही विलय करा दिया था. इस चुनाव में कांग्रेस को 29.13% के साथ 33 सीटों पर जीत मिली. लेकिन कुछ समय बाद इस गठबंधन में दरार आ गई और आरएलडी अध्यक्ष अजीत सिंह ने खुद को गठबंधन से अलग कर लिया.

इससे सबक लेते हुए 2002 में कांग्रेस ने अकेले चुनाव लड़ने का फ़ैसला किया. लेकिन उनका बिखरा वोट वापस नहीं लौटा. कांग्रेस का वोट प्रतिशत जो पिछले चुनाव में 29.13% था, घटकर 8.9% पर रह गया.

कांग्रेस ने 2012 में एक बार फिर राष्ट्रीय लोकदल से गठबंधन किया लेकिन कांग्रेस का न तो वोट प्रतिशत बढ़ा और न ही सीटें.