Coronavirus: पहले किसे मिलेगी वैक्सीन…जानिए सरकार ने क्या तय किया है फार्मूला

टीवी9 भारतवर्ष को मिली जानकारी के मुताबिक सरकार ने यह तय किया है सबसे पहले हाई रिस्क ग्रुप के लोगों को COVID-19 वैक्सीन दी जाए. इसके लिए बकायदा लिस्ट तैयार की जा रही है.
corona virus latest, Coronavirus: पहले किसे मिलेगी वैक्सीन…जानिए सरकार ने क्या तय किया है फार्मूला

देश में कोरोना वैक्सीन (coronavirus vaccine) बनाने के साथ उसे लोगों तक पहुंचाने को लेकर युद्द स्तर पर तैयारी चल रही है. सबको इस बात का इंतजार है कि वैक्सीन कब आएगी. साथ ही इस बात को लेकर भी उत्सुक्ता है कि वैक्सीन सबसे पहले किसे लगाई जाएगी. नीति आयोग ने इस लेकर एक बैठक की है जिसमें यह तय किया गया है कि वैक्सीन आने के बाद सबसे पहले किसका वैक्सिनेशन कराया जाए.

टीवी9 भारतवर्ष को मिली जानकारी के मुताबिक सरकार ने यह तय किया है सबसे पहले हाई रिस्क ग्रुप के लोगों को वैक्सीन दी जाए. इसके लिए बकायदा लिस्ट तैयार की जा रही है.

ICMR ने वैक्सीन के आने के बाद की स्थिति को ध्यान में रखते हुए 30 जुलाई को एक ऑनलाइन अंतर्राष्ट्रीय बैठक की. इसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अलग-अलग एजेंसियों के साथ वैक्सीन को लेकर चर्चा कर चुके हैं. इसमें प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) राज्य सरकारों को और स्वास्थ्य विभाग से वैक्सीन के आते ही उसको जरुरतमंद लोगों तक पहुंचाने की व्यवस्था के बारे में सुझाव मांगा था. जवाब मिलने के बाद मंत्रालय ने कई बैठकों में रुपरेखा तैयार कर PMO को भेजा था.

हाई रिस्क ग्रुप को सबसे पहले वैक्सीन

टीवी9 को मिली जानकारी के मुताबिक सबसे यह वैक्सीन हाई रिस्क ग्रुप के लोगों को दिया जाएगा. इसमें 45 साल के उपर के लोग शामिल होंगे. खासकर ऐसे लोग जिनमें पहले से कोई बीमारी है. इसके अलावा यदि 45 वर्ष से नीचे का भी कोई व्यक्ति किसी दूसरी गंभीर बीमारी से पीड़ित है तो उसे भी हाई रिस्क ग्रुप में ही शामिल किया जाएगा.

फ्रंट लाईन वर्कर्स को मिलेगी

सूत्रों के अनुसार सरकार ने फ्रंट लाइन वर्कर्स को भी प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन मुहैया कराने का फैसला किया है. इनमें डॉक्टर, हेल्थ केयर वर्कर, पुलिस, सफाई कर्मचारी शामिल हैं. सरकार का मानना है कि कोरोना संक्रमण का खतरा सबसे अधिक इन्हीं लोगों में है.

संक्रमित इलाके की पहचान

डॉक्टरों का यह भी मानना है कि कोरोना संक्रमित राज्यों की पहचान कर यह तय किया जाए कि वैक्सीन की जरुरत कहां सबसे ज्यादा है. मसलन जिस राज्य में कोरोना के सबसे अधिक मरीज हैं वहां ज्यादा से ज्यादा कोरोना का टीका मुहैया कराया जाए. ऐसे राज्यों में हाई रिस्क ग्रुप बनाकर लोगों को चिन्हित किया जाए और उनका वैक्सिनेशन हो.

स्वस्थ्य लोगों का नाम सबसे नीचे

सरकार के आला अधिकारी और डॉक्टरों की राय यह है कि ‘कोरोना का टीका किसे लगाया जाए’ इस प्राथमिकता में सबसे नीचे उन्हें रखा जाए जो पूरी तरह से स्वस्थ्य हों. कोरोना का कहर उनपर ज्यादा देखने को मिला है जिनमें पहले से कोई बीमारी हो. ऐसे में यदि किसी में कोई बीमारी पहले से नहीं है और वह स्वस्थ्य है तो प्राथमिकता में उसे नीचे के क्रम में रखा जाए.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts