अगले साल की शुरुआत में आ जाएगी Coronavirus की दवा! AIIMS में वैक्सीन के ट्रायल का प्रोसेस शुरू

AIIMS की तरफ से जानकारी दी गई है कि Covaxin का ट्रायल इमरजेंसी वार्ड के ठीक बराबर में होगा, ताकि अगर किसी वॉलंटियर की हालात बिगड़ती है, तो उसे बिना किसी देरी के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती किया जा सके.

दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) में आज से देश की पहली कोरोना वैक्सीन (Covaxin) का ह्यूमन ट्रायल की प्रक्रिया आज शुरू हो रहा है. इसके पहले फेज में करीब 100 लोगों पर इसका ट्रायल किया जाएगा, जिसकी पूरी तैयारियां कर ली गई हैं. बताया जा रहा है कि अगर सभी फेज सफल रहे, अगले साल की शुरुआत तक Covid-19 की वैक्सीन आ जाएगी.

गुरुवार या शुक्रवार को दी जाएगी पहली डोज

भले ही इस वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल का प्रोसेस आज से शुरू हो गया हो, लेकिन ट्रायल में दवा की पहली डोज गुरुवार या शुक्रवार को दी जाएगी, क्योंकि इससे पहले वॉलंटियर्स को AIIMS की कई गाइडलाइंस से गुजरना पड़ेगा.

देशभर में 12 जगहों पर हो रहा ट्रायल

AIIMS दिल्‍ली देश की उन 12 जगहों में से एक है, जहां Covaxin का ट्रायल हो रहा है. इसमें दिल्ली और पटना के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी AIIMS और हरियाणा के रोहतक का पीजीआई भी शामिल है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

इस ह्यूमन ट्रायल के लिए AIIMS ने कुछ जरूरी गाइडलाइंस भी बनाई हैं. वो गाइडलाइंस हैं….

  • सिर्फ 18 से 55 साल की उम्र वाले लोगों पर ही यह ट्रायल होगा.
  • साथ ही यह सभी लोग पूरी तरह से हेल्दी होने चाहिए.
  • ट्रायल में शामिल होने वाले सभी वॉलंटियर्स का AIIMS की तरफ से 50 लाख रुपए का इन्श्योरेंस होगा.
  • यह ट्रायल तीन चरणों में होगा. पहले फेज में सफलता पाने के बाद ही दूसरे फेज का ट्रायल होगा.
  • ट्रायल करने से पहले सभी वॉलंटियर्स का फुल बॉडी चैक-अप और सभी जरूरी टेस्ट किए जाएंगे.
  • पहले और दूसरे डोज के बीच 14 दिन का गैप रखा जाएगा.

इमरजेंसी वार्ड के बराबर में होगा में ट्रायल

AIIMS की तरफ से जानकारी दी गई है कि वैक्सीन का ट्रायल इमरजेंसी वार्ड के ठीक बराबर में होगा, ताकि अगर किसी वॉलंटियर की हालात बिगड़ती है, तो उसे बिना किसी देरी के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती करा कर सही इलाज दिया जा सके.

आप भी कर सकते हैं रजिस्ट्रेशन

Covaxin के ट्रायल में वॉलंटियर बनने के लिए आप भी रजिस्ट्रेशन करा सके हैं. इसके लिए AIIMS ने एक नंबर- 917428847499 और एक मेल आईडी- ctaiims.covid19@gmail.com भी जारी की है, जहां रजिस्ट्रेशन करा कर आप भी इस ह्यूमन ट्रायल का हिस्सा बन सकते हैं.

अब तक 1800 लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन

वहीं अब तक 1800 लोगों ने ट्रायल के रजिस्ट्रेशन कराया है. 1125 सैंपल लिए गए हैं. पहले फेज में 100 लोगों पर इसका ट्रायल होगा. हालांकि उसमें भी दवा की पहली डोज सिर्फ पहले पांच लोगों को दी जाएगी. पहले फेज की सफलता के बाद दूसरे फेज में वॉलंटियर्स की संख्या और ऐज ग्रुप दोनों को बढ़ा दिया जाएगा.

दूसरे फेज में 12-65 साल के 750 लोगों पर होगा ट्रायल

AIIMS के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने बताया कि फेज 1 वैक्सीन ट्राएल 18-55 साल के हेल्दी लोग जिन्हें कोई को-मोरबिडिटी नहीं है उन पर किया जाएगा. ट्राएल के लिए कुल 1125 सैंपल लिए गए हैं, जिसमें से 375 हेल्दी लोगों पर पहले फेज़ में और 12-65 साल के 750 लोगों पर दूसरे फेज़ में ट्राएल किया जाएगा.

‘वैक्सीन के साथ एक कंट्रोल आर्म भी होगा’

डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने बताया कि वैक्सीन के साथ एक कंट्रोल आर्म भी होगा जिसको हम प्लेसिबो कहते हैं. कुछ लोगों को वैक्सीन दिया जाएगा और कुछ को कंट्रोल. दोनों में इम्युनोजैनिटी का अंतर देखा जाएगाय ये ट्राएल AIIMS में होगा.

तीसरे फेज में ज्यादा आबादी पर होगा ट्रायल

गुलेरिया ने बताया कि वैक्सीन के तीन फॉर्मुलेशन ट्राई किए जाएंगे. पहले फेज़ में हम देखेंगे कि ये कितना सेफ है और इसका कितना डोज़ दिया जाना चाहिए. वहीं तीसरे फेज़ में इसका प्रयोग ज्यादा आबादी पर किया जाएगा.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts