Coronavirus: IIT Delhi ने बनाया Antibacterial कपड़ा, अस्पताल में फैले इन्फेक्शन से करेगा बचाव

यह एंटी बैक्टीरियल कपड़ा (Anti bacterial cloth) अभी तक कई टेस्ट में पास भी हो चुका है, जिसमें इस कपड़े पर हानिकारक बैक्टीरिया (Harmful bacteria) को खत्म करने का परीक्षण किया गया था.

महामारी (Pandemic) बना जानलेवा कोरोना वायरस (Coronavirus) अब तक दुनियाभर में करीब 6 लाख लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है. हर देश इससे निजात पाने के लिए अपने-अपने स्तर पर कोशिश कर रहा है. यहां तक कि WHO ने तो कई बिमारी और वायरस का सामना करने वाले भारत पर ही ज्यादा भरोसा दिखाया है. इसी कड़ी में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली (IIT Delhi) ने एक ऐसा कपड़ा तैयार किया है, जो कि हानिकारक बैक्टीरिया (Harmful bacteria) को खुद ही खत्म कर देता है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह एंटी बैक्टीरियल कपड़ा (Anti bacterial cloth) अभी तक कई टेस्ट में पास भी हो चुका है, जिसमें इस कपड़े पर हानिकारक बैक्टीरिया को खत्म करने का परीक्षण किया गया था, हालांकि अभी इसका फाइनल यानि कोरोना वायरस पर टेस्ट होना अभी बाकी है, जिसके लिए इसे एंटी वायरल लैब (Anti Viral Lab) भेजा जाएगा.

देखिए #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

कैसे होता है कपड़ा तैयार और इसमें क्या है खास?

  • इस कपड़े पर बैक्टीरिया इंफेक्शन प्रूफ फेब्रिक लगाया गया है, जिसकी मदद से यह कपड़ा 99.99 प्रतिशत बैक्टीरिया को मार देता है.
  • IIT दिल्ली के मुताबिक, शुरुआती प्रक्रिया में कपड़ा दो रोलर से होकर गुजरता है और फिर उसे केमिकल में डुबाया जाता है. इसके बाद दूसरे स्टेप में कपड़े को फिर से दो रोलर से गुजारा जाता है, जिसमें कपड़े पर लगा एक्सट्रा केमिकल निकाला जाता है. इस पूरी प्रक्रिया को केमिकल कोटिंग कहा जाता है, जो कि पैडिंग मैंगल इंन्स्ट्रूमेंट से की जाती है.
  • कपड़े को बनाने वाली टीम ने बताया कि वो इस पर करीब 3 साल से काम कर रहे थे. उन्होंने बताया कि टेस्टिंग के लिए उन्होंने काटन और कॉटन पॉलिएस्टर ब्लैंड दो अलग-अलग कपड़ों का इस्तेमाल किया था.

देखिए फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

AIIMS के साथ मिलकर पायलट प्रोजेक्ट शरू

IIT दिल्ली की जिस टीम ने इसे तैयार किया है, उसमें प्रोफेसर सम्राट मुखोपाध्याय, IIT Delhi के पूर्व बीटेक छात्र यति गुप्ता और AIIMS के कुछ डॉक्टर शामिल हैं. इन लोगों ने बताया कि इस कपड़े का इस्तेमाल अस्पताल में होने वाले इन्फेक्शन से बचाने के लिए किया जाएगा. यति गुप्ता ने बताया, “इसके लिए AIIMS के साथ मिल कर एक पायलट प्रोजेक्ट भी शुरू किया गया है. साथ ही कुछ बड़े अस्पताल भी इसकी टेस्टिंग की कोशिश में लगे हैं.”

देखिए परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts