Coronavirus: पहले दिन 532 फ्लाइट्स ने भरी उड़ान, 630 हुईं रद्द, कहीं खुशी तो कहीं गम में दिखे यात्री

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने बताया कि 'सोमवार को 532 फ्लाइट्स से 39 हजार 231 यात्रियों ने उड़ान भरी. भारतीय आकाश में रोमांच की वापसी हुई है.'
coronavirus lockdown domestic flights, Coronavirus: पहले दिन 532 फ्लाइट्स ने भरी उड़ान, 630 हुईं रद्द, कहीं खुशी तो कहीं गम में दिखे यात्री

कोरोनावायरस (Coronavirus) लॉकडाउन के बीच देश में तकरीबन 2 महीने बाद घरेलू उड़ानें (Domestic Flights) सोमवार से शुरू हुईं. दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सुबह 4:45 बजे से पुणे के लिए सबसे पहली फ्लाइट रवाना हुई, जो 7:30 बजे पहुंच गई.

नागरिक उड्डयन मंत्री ने दी जानकारी

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया, “सोमवार को 532 फ्लाइट्स से 39 हजार 231 यात्रियों ने उड़ान भरी. भारतीय आकाश में रोमांच की वापसी हुई है. आंध्र में कल से और बंगाल में 28 मई से उड़ानें शुरू होगीं. इसके बाद उड़ानों और यात्रियों की संख्या में और इजाफा होगा.”

छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का हाल

विमानन सेवा की शुरुआत के पहले दिन छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे ने 14 स्थानों के लिए 47 उड़ानों का परिचालन किया. वहीं, गोवा के लिए तय 13 उड़ानों में महज तीन उड़ानें ही गंतव्य पहुंच पाईं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड ने एक बयान में बताया कि सात विमानन कंपनियों ने 14 स्थानों के लिए 47 उड़ानों का परिचालन किया. इन उड़ानों से अनुमानित तौर पर 4,852 लोगों ने यात्रा की. इनमें 3,752 यात्री जाने वाले और 1,100 यात्री आने वाले शामिल रहे.

मुंबई हवाई अड्डे पर यात्रियों की लंबी लाइन देखी गई. सुरक्षाकर्मियों के थर्मल स्क्रीनिंग और आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने की वजह से यात्रियों को अंदर जाने में ज्यादा समय लग रहा है.

मुसाफिरों के बीच बनी अफरातफरी की स्थिति

इस दौरान, दिल्ली मुंबई और अन्य हवाई अड्डों पर उड़ानें रद्द होने से मुसाफिरों के बीच अफरातफरी की स्थिति बनी रही. यात्रियों की शिकायत की है कि उनकी फ्लाइटें रद्द कर दी गई हैं और एयरलाइंस की ओर से इसकी कोई जानकारी भी नहीं दी गई है.

दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से 82 उड़ानें रद्द हुई हैं. इसमें दिल्ली आने और जाने वाली दोनों उड़ानें शामिल हैं. जिससे यात्री गुस्से में हैं. उनका दावा है कि उन्हें आखिरी तक उड़ान रद्द होने की जानकारी नहीं दी गई.

कई यात्री नजर आए खुश

वहीं, इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सुबह कई यात्री खुश भी दिखे. सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कर रहे थे. दिल्ली-पुणे प्लेन की फ्लाइट अटैंडेंड अमनदीप कौर ने कहा कि हम पहली बार काम पर आते वक्त चिंतित हैं. हमें एयरलाइन से पहनने के लिए पीपीई किट मिलेगा.

कोरोनावायरस महामारी के बीच शुरू हुई आंशिक घरेलू उड़ानों के बीच बेंगलुरु से मुंबई गए यात्रियों ने सेवाओं को लेकर संतोष व्यक्त किया. यात्री अनामिका आयंगर ने आईएएनएस को बताया, “दुनियाभर में और भारत में फैले कोविड की वजह से इसके फैलने की चिंता को देखते हुए, वाकई में यह काफी आरामदायक और आश्वस्त करने वाला है.”

आयंगर ने केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे (केआईए) से मुंबई के लिए सुबह की उड़ान भरी. उन्होंने कहा, “चेक-इन और विवरण प्रस्तुत करने का हर चरण संपर्क रहित और समझने में आसान था. इसमें कोई मुश्किल नहीं आई. गाइड करने के लिए स्टॉफ भी था.”

चेन्नई हवाईअड्डे पर घरेलू हवाई सेवा शुरू

दो महीने के अंतराल बाद सोमवार को चेन्नई हवाईअड्डे पर घरेलू हवाई सेवा शुरू हुई. यहां से इंडिगो एयरलाइंस की उड़ान 116 यात्रियों के साथ दिल्ली के लिए रवाना हुई. घरेलू उड़ानों को कोविड-19 लॉकडाउन उपायों के हिस्से के रूप में निलंबित कर दिया गया था.

इस पहली फ्लाइट में 120 यात्रियों को दिल्ली जाने वाले विमान में यात्रा करने के लिए निर्धारित किया गया था, लेकिन अधिकारियों ने चार यात्रियों को बोर्ड करने की अनुमति नहीं दी, क्योंकि उनमें खांसी और सर्दी के लक्षण दिखे थे.

कोलकाता हवाईअड्डा रहा बंद

वहीं, गुवाहाटी और इम्फाल हवाईअड्डों को छोड़कर, पूर्वोत्तर राज्यों के किसी अन्य हवाईअड्डे पर सोमवार को कोई भी यात्री उड़ान नहीं उतरी क्योंकि पिछले सप्ताह चक्रवात अम्फन की चपेट में आने से कोलकाता हवाईअड्डा बंद हो गया था.

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक (एनईआर) संजीव जिंदल ने कहा कि जैसा कि पूर्वोत्तर में हवाईअड्डे मुख्य रूप से कोलकाता हवाईअड्डे से जुड़े हुए हैं, पूर्वोत्तर के अधिकांश हवाईअड्डों के लिए उड़ानों का संचालन नहीं किया जा सका.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts