कोरोनावायरस वैक्सीन Tracker: भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ने शुरू किया कोविड-19 टीके का उत्पादन

दुनियाभर में कोरोनावायरस मरीज़ों का आंकड़ा 31,196,543 पहुंच गया है, वहीं अब दुनियाभर में 962,793 लोगों की वायरस के चलते मौत हुई है. कोरोनावायरस और वैक्सीन से जुड़ी हर खबर के लिए पढ़ें लाइव अपडेट्स…

भारत को मार्च 2021 तक कोरोनावायरस की वैकसीन मिल सकती है.

कोरोनावायरस के मामले भारत समेत दुनियाभर में बढ़ते जा रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 55 लाख के पार पहुंच गई है. वहीं इस बीच कोरोना वैक्सीन को खोजने का काम भी तेजी से चल रहा है. यहां आपको कोरोनावायरस और कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine News) से जुड़ी हर बड़ी और ताजा जानकारी मिलेगी.

बता दें कि भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोनावायरस के 75,083 नए मामले सामने आए हैं. इस दौरान 1,053 लोगों की संक्रमण के चलते मौत हुई है. इसके साथ ही कुल संक्रमितों का आंकड़ा 55 लाख के पार पहुंच गया है. अब देश में कुल 9,75,861 एक्टिव मामलों के साथ, 55, 62,664 हैं. इनमें से 44,97,868 रिकवर हो चुके हैं. अब तक देश में 88,935 मौतें कोरोनावायरस के चलते हुई हैं.

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी द्वारा जारी ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक दुनियाभर में कोरोनावायरस मरीज़ों का आंकड़ा 31,196,543 पहुंच गया है, वहीं अब दुनियाभर में 962,793 लोगों की वायरस के चलते मौत हुई है. कोरोनावायरस मामलों और वैक्सीन से जुड़ी हर खबर के लिए पढ़ें लाइव अपडेट्स…

Latest Updates

Picture

भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ने शुरू किया कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादन

22/09/2020,9:01PM

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) ने भारत में कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादन शुरू कर दिया है.सीरम इंस्टिट्यूट ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के कोरोना वैक्सीन प्रोजेक्ट में पार्टनर है और भारत में इस वैक्सीन का ट्रायल करवा रहा है. संख्या के लिहाज से दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट कोडागेनिक्स के CDX-005 को विकसित करेगी. सीरम इंस्टिट्यूट वैक्सीन उत्पादन के मामले में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है.

Picture

चीन ने पाकिस्तान में शुरू किया तीसरे चरण का ट्रायल

22/09/2020,8:00PM

चीन ने पाकिस्तान में कोरोना वायरस की वैक्सीन का तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर दिया है. नेशनल कमांड एंड ऑपरेशन सेंटर (NCOC) ने मंगलवार को इस बात की घोषणा की.NCOC के मुताबिक पाकि​स्तान के लिए कोविड 19 वैक्सीन को चीन की CanSino Biologics ने विकसित किया है.

Picture

15 अक्टूबर तक दूसरी वैक्सीन ला सकता रूस

22/09/2020,4:40PM

दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन तैयार करने के दावे के बाद अब रूस दूसरा टीका लाने की तैयारी में है. रूस को उम्मीद है कि वह कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी दूसरी वैक्सीन 15 अक्टूबर तक रजिस्टर कर लेगा. मंगलवार को टीएएसएस न्यूज एजेंसी ने रसियन कंज्यूमर सेफ्टी वाचडाॅग रस्पोटरिब्नाडार के हवाले से एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड-19 के लिए इस वैक्सीन को साइबेरिया की वेक्टर इंस्टीट्यूट ने विकसित किया है. वेक्टर इंस्टीट्यूट ने हाल ही में इस वैक्सीन का प्रारंभिक मानव परीक्षण पूरा किया था.

Picture

5000 करोड़ खर्च करने होंगे

22/09/2020,12:10PM

भारत की प्रमुख कंपनी जायडस ने दावा किया है कि देशभर में सभी लोगों के लिए वैक्सीन का बड़े पैमाने पर उत्पादन पर ज़्यादा से ज़्यादा सुविधाओं की ज़रूरत होगी. कंपनी के चेयरमैन पंकज आर पटेल के मुताबिक लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने के लिए जो सुविधाएं ज़रूरी होंगी उन पर क़रीब 5 हज़ार करोड़ रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं.

Picture

50 फीसदी पर प्रभावी हो वैक्सीन

22/09/2020,9:19AM

भारत में कोविड -19 वैक्सीन पर काम करने वाली कंपनियों को यह प्रदर्शित करना होगा कि कम से कम आधे लोग जो इसे प्राप्त करते हैं, वे संक्रमण से सुरक्षित हैं. टीके की मंज़ूरी के लिए ये दिखाना होगा कि वो बेहतर एंटीबॉडी और सेलुलर प्रतिक्रियाओं को बढ़ाता है. भारत के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल द्वारा सोमवार को जारी किए गए कोविड -19 वैक्सीन के लिए दिशानिर्देशों के अनुसार, भारत के बाहर विकसित वैक्सीन, ट्रायल में उत्पन्न आंकड़ों के आधार पर मार्केटिंग ऑथराइजेशन के लिए आवेदन कर सकते हैं.

Picture

कम आय वाले देशों में मुहैया कराई जाएगी वैक्सीन

22/09/2020,6:44AM

गावी के सीईओ डॉ. सेठ बर्कले ने सोमवार को कहा है कि कोवाक्स फैसिलिटी, कोरोना वैक्सीन को कॉर्डिनेट कर रही है और हमारी बाज़ार के साथ प्रतिबद्धता कायम है. उन्होंने कहा कि इनमें कम आय वाले देशों में कोरोनावायरस बीमारी के खिलाफ 850 मिलियन डोज का वितरण करना भी शामिल है. हम अब तक 850 मिलियन डोज़ के समझौते पर हस्ताक्षर कर चुके हैं. हम अन्य समझौतों के दौरान इस समझौते को पूरा करने के लिए पत्पर रहेंगे. गावि के सीईओ ने कहा कि इस सुविधा का लक्ष्य निम्न आय वाले देशों में वितरण के लिए COVID-19 के खिलाफ सुरक्षित और प्रभावी टीकों की 2 बिलियन खुराक का वितरण था.

Related Posts