Defence Deal Case: जया जेटली को राहत, दिल्ली HC ने की CBI कोर्ट की सजा सस्पेंड

CBI कोर्ट से सजा मिलने के कुछ ही घंटे बाद जया जेटली (Jaya Jaitley) ने दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) का रुख किया. जहां कोर्ट ने उन्हें राहत देते हुए फिलहाल के लिए सज़ा को सस्पेंड कर दिया.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 7:10 pm, Thu, 30 July 20

दिल्ली के राउज एवेन्यू स्थित विशेष CBI कोर्ट के जज वीरेंद्र भट्ट ने गुरुवार को 2 दशक पुराने रक्षा सौदा (Defence deal) घूस मामले पर सजा सुनाई. जिसके थोड़ी देर बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने सजा को सस्पेंड कर दिया.

दरअसल, आज CBI कोर्ट ने समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष और पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फ़र्नान्डिस की करीबी जया जेटली  (Jaya Jaitley), उनके पूर्व पार्टी सहयोगी गोपाल पचेरवाल, मेजर जनरल (रिटायर्ड ) एसपी. मुरगई को भी 4-4 साल कैद की सजा सुनाई.

इतना ही नहीं कोर्ट ने तीनों दोषियों पर 1-1 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया, साथ ही कोर्ट ने गुरुवार शाम 5 बजे तक सरेंडर करने का आदेश दिया था. सज़ा सुनाने के कुछ ही घंटों बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने सज़ा को सस्पेंड कर दिया.

रक्षा सौदे में भ्रष्टाचार मामले में राउज एवेन्यू कोर्ट से सजा मिलने के कुछ ही घंटे बाद जया जेटली ने दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया. जहां कोर्ट ने उन्हें राहत देते हुए फिलहाल के लिए सज़ा को निलंबित कर दिया. यानी मामले में फिलहाल जया जेटली को सरेंडर नहीं करना होगा.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

क्या है पूरा मामला?

मामला, साल 2000-01 का है, एक निजी मीडिया हाउस (तहलका न्यूज पोर्टल ) ने एक खुफिया ‘ऑपरेशन वेस्ट एंड’ स्टिंग ऑपरेशन किया था. जिसमें रक्षा सौदों में भ्रष्टाचार को दिखाया गया था, स्टिंग में रक्षा मंत्रालय से जुड़े कई बड़े अफसरों और नेताओं को घूसखोरी करते दिखाया गया था.

मामले में CBI ने 4 आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया था. इन आरोपियों में जया जेटली, उस समय के मेजर जनरल एसपी मुरगई, गोपाल के. पचेरवाल और सुरेंद्र कुमार सुरेखा थे.

CBI ने 2006 में आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करते हुए कहा था कि जया जेटली ने 2000-01 में मुरगई, सुरेंद्र कुमार सुरेखा और पचेरवाल के साथ मिलकर आपराधिक साजिश रची और एक काल्पनिक कंपनी वेस्टेंड इंटरनेशनल लंदन के एक्जीक्यूटिव मैथ्यू सैमुअल से 2 लाख रुपये की रिश्वत ली ग‌ई.

रिश्वत देने वाले मैथ्यू सैमुअल एक अंडर कवर रिपोर्टर थे, उन्होंने कुछ रक्षा उपकरणों की सप्लाई के ऑर्डर हासिल करने और रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों पर प्रभाव डलवाने के लिए रिश्वत दी थी.

चार्जशीट में यह भी कहा गया था कि मुरगई को 20 रुपए का भुगतान किया गया और सुरेखा को एक लाख रुपये दिए गए थे, CBI का दावा था कि इन लोगों ने पहले हुए कई रक्षा सौदों में भी भ्रष्टाचार किया था, हालांकि बाद में सुरेखा सरकारी गवाह बन गए थे. दो दशक बाद कोर्ट ने जया जेटली, एसपी मुरगई और गोपाल पचेरवाल को सज़ा सुनाई है.

तत्कालीन रक्षा मंत्री को देना पड़ा था इस्तीफा

स्टिंग ऑपरेशन के सामने आने के बाद बड़ा सियासी बवाल मचा था. करीबी पर आरोपों के चलते तत्कालीन रक्षा मंत्री फर्नांडीज को इस्तीफा देना पड़ा था मामले में भाजपा के पूर्व अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण का नाम भी सामने आया था लेकिन उन्हें बाद में क्लीन चिट दे दी गई थी.