दिल्ली: रक्षा सौदे में भ्रष्टाचार का मामला, CBI कोर्ट में जया जेटली समेत 3 की सजा पर फैसला सुरक्षित

CBI की विशेष अदालत के जज वीरेंदर भट (Virender Bhat) ने जया जेटली (Jaya Jaitley) और उनके दो सहयोगियों को भ्रष्टाचार और आपराधिक साजिश का दोषी ठहराया था. बुधवार को कोर्ट ने सुनवाई की, कोर्ट अब इस मामले में कल सजा का ऐलान करेगी.

रक्षा सौदे (Defence deal) में भ्रष्टाचार के आरोप में समता पार्टी (Samata Party) की पूर्व अध्यक्ष और पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फ़र्नान्डिस की करीबी जया जेटली (Jaya Jaitley) समेत तीन आरोपियों की सज़ा पर दिल्ली की विशेष CBI अदालत में बहस पुरी, कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित, कल सुनाई जाएगी सज़ा.

CBI की विशेष अदालत के जज वीरेंदर भट (Virender Bhat) ने जया जेटली, उनकी ही पार्टी के पूर्व सहयोगी गोपाल पचेरलवाल और रिटायर्ड मेजर जनरल एसपी मुरगई (SP Murgai) को भ्रष्टाचार और आपराधिक साजिश का दोषी ठहराया था, बुधवार को मामले पर कोर्ट ने सज़ा पर बहस को ले सुनवाई की, कोर्ट अब मामले कल सजा का ऐलान करेगी.

क्या है पूरा मामला?

मामला, साल 2000-01 का है, एक निजी मीडिया हाउस ( तहलका न्यूज पोर्टल ) ने एक खुफिया ‘ऑपरेशन वेस्ट एंड’ स्टिंग ऑपरेशन किया था. जिसमें रक्षा सौदों में भ्रष्टाचार को दिखाया गया था, स्टिंग में रक्षा मंत्रालय से जुड़े कई बड़े अफसरों और नेताओं को घूसखोरी करते दिखाया गया था.

मामले में CBI ने 4 आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया था. इन आरोपियों में जया जेटली, उस समय के मेजर जनरल एसपी मुरगई, गोपाल के. पचेरवाल और सुरेंद्र कुमार सुरेखा थे.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

CBI ने 2006 में आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करते हुए कहा था कि जया जेटली ने 2000-01 में मुरगई, सुरेंद्र कुमार सुरेखा और पचेरवाल के साथ मिलकर आपराधिक साजिश रची और एक काल्पनिक कंपनी वेस्टेंड इंटरनेशनल लंदन के एक्जीक्यूटिव मैथ्यू सैमुअल से 2 लाख रुपये की रिश्वत ली ग‌ई.

रिश्वत देने वाले मैथ्यू सैमुअल एक अंडर कवर रिपोर्टर थे, उन्होंने कुछ रक्षा उपकरणों की सप्लाई के ऑर्डर हासिल करने और रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों पर प्रभाव डलवाने के लिए रिश्वत दी थी.

चार्जशीट में यह भी कहा गया था कि मुरगई को 20 रुपए का भुगतान किया गया और सुरेखा को एक लाख रुपये दिए गए थे, CBI का दावा था कि इन लोगों ने पहले हुए कई रक्षा सौदों में भी भ्रष्टाचार किया था, हालांकि बाद में सुरेखा सरकारी गवाह बन गए थे. दो दशक बाद कोर्ट ने जया जेटली, एसपी मुरगई और गोपाल पचेरवाल को दोषी करार दिया है.

तत्कालीन रक्षा मंत्री को देना पड़ा था इस्तीफा

स्टिंग ऑपरेशन के सामने आने के बाद बड़ा सियासी बवाल मचा था. करीबी पर आरोपों के चलते तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फ़र्नान्डिस को इस्तीफा देना पड़ा था मामले में भाजपा के पूर्व अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण का नाम भी सामने आया था लेकिन उन्हें बाद में क्लीन चिट दे दी गई थी.

Related Posts