जितेंद्र सिंह तोमर के खिलाफ फर्जी डिग्री मामले की कोर्ट में हुई सुनवाई, अभी 65 गवाहों की गवाही बाकी

कोर्ट ने आप विधायक को IPC की धारा 471 के तहत जाली दस्तावेजों को वास्तविक बताकर पेश करने के अपराध का भी आरोपी ठहराया था.

नई दिल्ली: दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर के खिलाफ फर्जी डिग्री मामला की आज कोर्ट में सुनवाई हुई. तोमर के दफ्तर पर रेड मारने वाले और सर्च टीम का हिस्सा रहे तत्तकालीन मालवीय नगर SHO ने अपन बयान दर्ज कराया. साथ ही दिल्ली पुलिस के ACP विजय चंदेल ने भी कोर्ट में अपना स्टेटमेंट रिकॉर्ड करवाया. इसके बाद उनका क्रॉस एग्जामिनेशन हुआ.

तोमर मामले में मंगलवार को अन्य गवाहों की गवाही दी जाएगी. इस मामले में कुल 74 गवाह हैं, जिनमें से 9 की गवाही हो चुकी है. बता दें कि तोमर पर एडवोकेट के तौर पर रजिस्ट्रेशन के लिए बार काउंसिल ऑफ दिल्ली (BCD) के साथ धोखाधड़ी (420) और आपराधिक साजिश (120B) के तहत मुकदमा चल रहा है.

AAP MLA पर लगे हैं गंभीर आरोप
इतना ही नहीं कोर्ट ने त्रिनगर से आप विधायक को IPC की धारा 471 के तहत जाली दस्तावेजों को वास्तविक बताकर पेश करने के अपराध का भी आरोपी ठहराया था. दरअसल, पुलिस ने दिल्ली बार काउंसिल के तत्कालीन सेक्रेटरी पुनीत मित्तल से 13 मई 2015 में मिली शिकायत पर जांच के बाद तोमर और 13 अन्य के खिलाफ यह केस दर्ज किया था.

चार्जशीट में पुलिस ने तोमर पर आरोप लगाया था कि पूर्व कानून मंत्री की BSC से जुड़ी डिग्री और मार्कशीट जाली थी. कोर्ट ने 9 के खिलाफ मामले में आरोप तय किए, जबकि 5 को बरी कर दिया है.

ये भी पढ़ें-

राजस्थान के जैसलमेर से पकड़ा गया संदिग्ध, समझ नहीं आ रही उसकी भाषा

क्या आपने देखा ‘फ्लाइंग सोल्जर’? फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों ने शेयर की है Video

RBI के इस मोबाइल एप से असली-नकली नोटों की पहचान कर सकेंगे नेत्रहीन