कोरोना: हर दुर्गा पूजा कमेटी को 50 हजार देगी ममता सरकार, गाइडलाइंस भी कीं जारी

कोरोना (Corona) महामारी ने पूरे देश को प्रभावित किया है. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की दुर्गा पूजा भी इस साल इसके प्रकोप से बच नहीं पाई.

देश में बढ़ते कोरोना (Corona) मामलों को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने दुर्गा पूजा को लेकर गुरुवार को कुछ जरूरी गाइडलाइंस जारी की. ममता बनर्जी ने नेताजी इंडोर स्टेडियम में राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों, पुलिस और पूजा समिति के आयोजकों से मुलाकात की.

गाइडलाइंस के मुताबिक दुर्गा पूजा का पंडाल भीड़ को मद्देनजर रखते हुए वेंटिलेशन और आने-जाने के लिए चारों तरफ से खुला होगा. राज्य सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस के मुताबिक पंडाल के एंट्री गेट पर हैंड सेनेटाइजर की उपलब्धता अनिवार्य होगी. सभी का मास्क पहनना अनिवार्य होगा. मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि इस साल दुर्गा पूजा कार्निवल का आयोजन नहीं किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : पीएम किसान सम्मान और आयुष्मान भारत पर आखिर क्यूं बरसी दीदी की ममता ?

सरकार ने पश्चिम बंगाल में कोरोना मामलों को लेकर इन नियमों को अनिवार्य किया गया है. उन्होंने कहा कि सभी को सामाजिक दूरी का पालन करना होगा. इस साल पंडाल के भीतर कल्चर प्रोग्राम आयोजित नहीं किए जाएंगे.

राज्य सरकार करेगी मदद

राज्य सरकार दुर्गा पूजा समितियों को 50,000 रुपए का अनुदान देगी. दुर्गा पूजा से पहले 80,000 फेरीवालों को 2000 रुपए प्रति व्यक्ति का एकमुश्त अनुदान भी दिया जाएगा. ममता बनर्जी ने कहा कि इस साल कोरोनावायरस महामारी के कारण दुर्गा पूजा समितियों के लिए चंदा इकट्ठा करना मुश्किल होगा.

उन्होंने कहा कि दुर्गा पूजा के आयोजन में राज्य की पूजा समितियों को आर्थिक परेशानी न हो, इसके लिए सरकार ने प्रदेश की सभी पूजा समितियों को 50-50 हजार रुपए देने का फैसला किया है. इसके अलावा ममता बनर्जी ने पंडालों को बिजली बिल में भी राहत दी है. ममता बनर्जी ने कहा कि इस साल पूजा समितियों को बिजली बिल में 50 प्रतिशत की छूट मिलेगी.

बता दें कि दुर्गा पूजा पूरे देश में धूमधाम से मनाई जाती है. पश्चिम बंगाल में यह बड़े स्तर आयोजित की जाती है. 2,500 से अधिक दुर्गा पूजन तो केवल कोलकाता पुलिस क्षेत्र में ही आयोजित किए जाते हैं. यह संख्या लोगों के घरों या परिसरों में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों से अलग है. पश्चिम बंगाल में हफ्तों तक चलने वाला यह त्योहार 22 अक्टूबर से शुरू हो रहा है.

कोरोना की प्रकोप से इस साल कुछ भी अछूता नहीं है. पिछले 24 घंटों में 86,508 नए मामलों के साथ भारत में कोरोना के कुल 57,32,518 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं 46,74,987 लोग इस बीमारी से ठीक भी हो चुके हैं. 90,000 से अधिक मौतों के साथ मरने वालों का आंकड़ा 91,149 पहुंच गया है. पश्चिम बंगाल में बुधवार को राज्य स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना के कुल 2,34,673 हो गए हैं.

Related Posts